Bhagalpur News:अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर टीएबीयू में कार्यक्रम आयोजित, योग जागरूकता अभियान में टीएमबीयू की होगी अहम भूमिका : प्रो. नीलिमा गुप्ता


ग्राम समाचार, भागलपुर। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में सोमवार को तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के सीनेट हॉल में राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के तत्वावधान में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम का उदघाटन टीएमबीयू की कुलपति व मुंगेर विश्वविद्यालय की प्रभारी कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने दीप प्रज्वलित कर किया। कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने कहा कि योग से शरीर स्वस्थ रहता है और मन हमेशा प्रसन्नचित रहता है। स्वस्थ शरीर के लिए रोजाना योग करना जरूरी है। इससे तन और मन नियंत्रित रहता है। शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है। योग रोग को भगाता है और शरीर को निरोग बनाए रखता है। कुलपति ने कहा कि योग हमारी धरोहर, संस्कृति और हेरिटेज है। वर्षों पूर्व में ही इसे ऋषि मुनियों ने अपनाया था। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से इसे हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में विश्व भर में मनाया जाने लगा है। पीएम ने संयुक्त राष्ट्र संघ में विश्वव्यापी योग दिवस मनाने को लेकर प्रस्ताव रखा था जिसे यूएनओ में तकरीबन 177 देशों ने इस पर अपना समर्थन दिया था। तभी से प्रत्येक साल के 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरुआत वर्ष 2015 से हुई थी। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर के लिए रोजाना योग करें। इससे तनाव और अवसाद से भी मुक्ति मिलती है। साथ ही योगा से शरीर की इम्युनिटी भी बढ़ती है। मन और मस्तिष्क तरोताजा बना रहता है। वीसी प्रो. नीलिमा गुप्ता ने कहा कि विश्वविद्यालय में योग को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम भी चलाये जाएंगे। योग संस्थान से एमओयू भी किया जाएगा। छात्र-छात्राओं के अलावे एनएसएस के वॉलंटियर्स को विशेष रूप से योग के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। उन्होंने जन-जन तक योग को प्रोत्साहित करने के लिए शिक्षकों और छात्रों से प्रण लेने को कहा। उन्होंने कहा कि योग दिवस को लेकर जागरूकता कार्यक्रम में टीएमबीयू की भी महती भूमिका होगी। मौके पर उन्होंने नारा दिया कि यदि हम करेंगे योग तो रहेंगे निरोग। इस अवसर पर कुलपति ने योग में राष्ट्रीय स्तर पर उत्तकृष्ट प्रदर्शन करने वाले टीएनबी कॉलेज के छात्र आशीष कुमार और मारवाड़ी कॉलेज की छात्रा शिल्पी प्रिया को अंग वस्त्रम भेंट कर सम्मानित की और उन्हें बधाई दी। कुलपति ने कहा कि टीएमबीयू के छात्र आज सभी क्षेत्रों में अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन कर परचम लहरा रहे हैं। टीएमबीयू के लिए यह काफी गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि वे खुद रोजाना सुबह में आधे घण्टे योग करती हैं। कुलपति ने कहा कि योग शरीर के  लिए अहम है। आज योग की बहुत अधिक आवश्यकता हो गई है। योग के माध्यम से तन और मन को स्वस्थ रखा जा सकता है। खुद भी नियमित रूप से योग करें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। भारत को एक स्वस्थ देश के रूप में स्थापित करने में योग को बढ़ावा देने की जरूरत है। विशिष्ट अतिथि डीएसडब्लू प्रो. राम प्रवेश सिंह ने कहा की योगा मन और शरीर को संतुलित करता है। एनएसएस के छात्र योग के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाये हैं। योग के महत्व पर उन्होंने प्रकाश डाला। एनएसएस के छात्रों ने ताड़ासन, अनुलोम-विलोम, सूर्य नमस्कार, सर्वांगासन, वृक्षासन, शीर्षासन आदि योग करके दिखाया। साथ ही डीएसडब्लू ने भी योग के कई आसन से अवगत कराया। अतिथियों का स्वागत और विषय प्रवेश एनएसएस कॉर्डिनेटर डॉ अनिरुद्ध कुमार ने किया। मंच संचालन डॉ सुमन कुमार ने किया। मौके पर विश्वविद्यालय पीआरओ डॉ दीपक कुमार दिनकर, डॉ सीता भगत, डॉ अनुराधा प्रसाद, डॉ श्वेता पाठक, डॉ अम्बिका कुमार, डॉ राजीव कुमार सहित कई महाविद्यालयों के एनएसएस प्रोग्राम ऑफिसर और वॉलंटियर्स उपस्थित थे। कार्यक्रम के आयोजन में एनएसएस के स्वयंसेवक मृत्युंजय सिंह, सत्यम, सौरभ, सुज्ञान आदि ने सहयोग किया। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण यू-ट्यूब के माध्यम से भी किया जा रहा था। योग कार्यक्रम ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही मोडों में संचालित हुआ। इसके पहले कुलगीत से कार्यक्रम की शुरुआत की गई। कुलपति का स्वागत अंग वस्त्र और बुके भेंट कर किया गया। यह जानकारी पीआरओ डॉ दीपक कुमार दिनकर ने दी।



Share on Google Plus

Editor - Bijay shankar

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education