expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: पाकुड़िया लाखों खर्च कर बसंतपुर गांव का जलमीनार बना शोभा की वस्तु

ग्राम समाचार, पाकुड़। पाकुड़िया प्रखंड के आदिवासी बहुल बसंतपुर गांव के लोगों को सुगम जलापूर्ति हेतु निर्मित  पाईपलाइन जलापूर्ति योजना से इन दिनों पानी नही मिल पा रहा है । जिस कारण ग्रामवासियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है । इस बाबत ग्रामीण सुरेश हेम्ब्रम , अजित किस्कु , अल्मा टुडू , सोनोति हांसदा , सागेन टुडू , कालिदास टुडू आदि अन्य ने बताया कि पठारी इलाके में स्थित इस गांव की आबादी लगभग  1500 से ज्यादा की है । जो कई टोलों में विभक्त है । गांव में लोग वर्षों से शुद्ध पेयजल की समस्या से जूझ रहे थे । क्योंकि यहाँ वाटर लेवल काफी नीचे है । जिस कारण चापानल से साल के दो तीन माह ही पानी मिल पाता है । इसी समस्या को दूर करने हेतु यहां लाखों खर्च कर सरकार के द्वारा डीप बोरिंग कर बड़ा ओवरहेड टंकी का निर्माण करवाया गया । साथ ही सभी गांवों में पाईपलाइन बिछाया गया । वेट का निर्माण किया गया । उसके बाद सोलर सिस्टम से यहां के तीन टोलावासी को एक वर्ष तक पानी का सप्लाई भी किया गया । परन्तु उसके बाद से यहाँ पानी का सप्लाई पूरी तरह से बंद पड़ा है । जिस कारण पूरे बसंतपुर वासियों को दूसरे गांवों से पानी सर पर ढोकर अपनी प्यास बुझानी पड़ रही है । अब दूसरा टोला वासी भी पानी देने से मना कर रहे हैं जिस कारण कभी कभी लड़ाई झगड़े जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है । बसंतपुर वासियों ने सरकार से जनहित में इस जलापूर्ति योजना से ग्रामवासियों को जल्द पानी सप्लाई को चालू कराने की मांग की है ताकि उन्हें पानी के लिये दूसरे टोले मोहल्ले पर आश्रित नही रहनी पड़े । इधर इस बाबत पंचायत की मुखिया बीटी हांसदा ने बताया कि कुछ तकनीकी गड़बड़ी के कारण इस जलापूर्ति योजना से पानी सप्लाई बंद है । इसे जल्द ठीक कराने हेतु विभागीय अभियन्ता को सूचित किया गया है । उन्होंने जल्द ही इसे ठीक करवाने का आश्वाशन भी दिया है । इसके ठीक हो जाने के बाद बसन्तपुर की पेयजल समस्या जल्द ही दूर हो जायेगी । बहरहाल ग्रामीण  बेसब्री से जलापूर्ति योजना से पानी मिलने का इंतजार कर रहे हैं।


ग्राम समाचार, विशाल कुमार भगत पाकुड़िया


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें