expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: भविष्य में भारतवर्ष को गृहयुद्ध से बचाने के लिए देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून जरूरी: साहब हाॅसदा

ग्राम समाचार, पाकुड़।  विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर टीम जनसंख्या फाउंडेशन के प्रतिनिधि मंडल के द्वारा साहेब हाँसदा के नेतृत्व जनसंख्या विस्फोटक से उत्पन्न संसाधन,सामाजिक,आर्थिक एवं पर्यावरण संकट द्वारा राष्ट्र को संभावित गृहयुद्ध से बचाने हेतु जनसंख्या नियंत्रण कानून संसद में पारित एवं लागू कराने हेतु भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी के नाम सात सूत्री ज्ञापन  जिले के उपायुक्त कुलदीप चौधरी को सौंपा गया।  इस अवसर पर हिसाबी राय,दुर्गा मरांडी,अनिकेत गोस्वामी,असीम मंडल, जवाहर सिंह इत्यादि मौजूद थे। इस अवसर पर साहब हाॅसदा ने कहा कि विश्व के कई नोबेल पुरस्कार विजेताओं ने टाइम्स हायर एजुकेशन ऑफ लंदन संस्था के सर्वे में मानव अस्तित्व को सबसे बड़ा खतरा बढती जनसंख्या वह प्रदूषण से बताया है।भारत के परिपेक्ष में यह खतरा और अधिक गंभीर हो जाता है क्योंकि विश्व का केवल 2.4% भू-भाग हमारे पास है और विश्व की कुल जनसंख्या का हम 17.74% भार बहन कर रहे हैं। भारत की जनसंख्या आज 138 करोड़ को पार कर चुकी है। कम क्षेत्रफल होने के बावजूद इतनी अधिक आबादी का ही परिणाम है कि उपलब्ध प्राकृतिक संसाधन बहुत तेजी से कम पड़ते जा रहे हैं तथा सामाजिक, आर्थिक एवं पर्यावरणीय स्थितियां विस्फोटक होती जा रही है। विश्व जनसंख्या दिवस पर हिसाबी राय ने कहा कि बढ़ती आबादी के कारण अतिक्रमण एवं प्रदूषण के फलस्वरुप जीव जंतुओं की लाखों प्रजातियां विलुप्त हो रही है।इतनी बड़ी आबादी के लिए स्कूल,कॉलेज,हॉस्पिटल,रेलवे स्टेशन,मेट्रो,सङक,एयरपोर्ट,प्रशासनिक दफ्तर,कारखाने और आवास उपलब्ध कराने में खेती तथा जंगलों की जमीन घट रही है।फलस्वरूप भविष्य में खाने को पर्याप्त अन्न भी पैदा नहीं होगा और इतने लोगों के लिए शिक्षा चिकित्सा व रोजगार की व्यवस्था भी ठीक प्रकार से नहीं हो पाएगी।प्रदूषण,जल एवं खाद्यान्न संकट के कारण बीमारियां अपने चरम पर होगी। चारों ओर अपराध भुखमरी एवं गरीबी के कारण व्यवसाय भी ठप पङ जाएंगे।ऐसी स्थिति में एक दिन ऐसा आएगा जब लोग एक दूसरे के खून के प्यासे हो जाएंगे और देश गृहयुद्ध के कगार पर होगा। यह स्पष्ट है कि जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न संसाधन सामाजिक आर्थिक एवं पर्यावरण संकट से भारत पल प्रतिपल गृहयुद्ध की ओर अग्रसर है जनसंख्या संकट से भविष्य में हालात बेकाबू होकर देश संकटों से ना गिर जाए इसका एकमात्र उपाय सख्त जनसंख्या नियंत्रण कानून हम भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी से मांग करते हैं कि संसद में जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने हेतु प्रस्ताव पारित कर कानून बनाया जाए। 

ग्राम समाचार,बिक्की भगत पाकुड़

Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें