expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : रेवाड़ी जिले में टिड्डी दल का चौथी बार हमला, तैयारीया पूरी होने के बावजूद प्रशासन दिखा लाचार.

जैतड़ावास गांव में फायर ब्रिगेड से पेड़ों पर स्प्रे करवाते एसडीएम रवींद्र यादव. 

ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी में शुक्रवार को एक बार फिर टिड्डी दल का हमला हुआ। इस बार एक नहीं बल्कि टिड्डीयो के दो अलग-अलग झुंडो ने अटैक किया। राजस्थान में सक्रीय दो टिड्डी दलों ने हवा के रुख के हिसाब से शुक्रवार को रेवाड़ी और बावल की सीमा में धावा बोल दिया। राजस्थान से आये एक टिड्डी दल ने बावल के गांव खिजूरी, भादोज, झाबुआ, दुल्हेड़ा, शेखपुर, सुटखेड़ी और रणसी माजरी समेत एक दर्जन से अधिक गांवों में हमला किया हालाँकि यह टिड्डी दल थोड़ा छोटा था और टिड्डी दल ने पेड़ो आदि पर ही अपना डेरा डाला जिससे फसलों को कम नुकसान होने की बात सामने आयी है। वही दूसरे टिड्डी दल ने रेवाड़ी के गांव जैतड़ावास, सुलखा, खरखड़ी, नैचाना समेत एक दर्जन से अधिक गांवो में फसलों भारी नुकसान पहुँचाया। टिड्डी दल ने रात को जैतड़ावास गांव में डेरा डाला और फसलों को बर्बाद किया।टिड्डी दल ने रेवाड़ी गांवो में रात को डेरा डाला और फसलों को काफी नुकसान पहुँचाया। प्रशासन की ओर से फायर ब्रिगेड और ट्रैक्टर आदि से स्प्रे करवाया गया. टिड्डी दल के सक्रीय होने और रेवाड़ी सीमा में घुसने की सूचना पर प्रशासन पहले से ही मुस्तैद था प्रशासन ने अपनी तैयारीया भी रखी लेकिन पर्याप्त मात्रा में ट्रैक्टर और स्प्रे नहीं होने के कारण टिड्डी दल के सामने बेबस और लाचार दिखा. रेवाड़ी में एसडीएम रविंद्र यादव और बावल में एसडीएम रविंद्र कुमार ने कृषि अधिकारियो के साथ मोर्चा संभाला हुआ था और रात भर टिड्डियों को मारने का सिलसिला जारी रहा। प्रशासन की माने तो पूरी रात से टिड्डियों मारने के लिए स्प्रे करवाया गया और शनिवार सुबह तक बड़ी संख्या में टिड्डियों को मारने में सफलता हासिल कर ली। प्रशासन व कृषि विभाग के अधिकारियो की माने तो टिड्डी दल से बचाव अभियान जारी है टिड्डी नियंत्रण अभियान में लगभग 60 प्रतिशत टिड्डीयो के मारे जाने का दावा किया है चूँकि टीडीयो की संख्या करोडो में है इसलिए बचे हुए टिड्डी दल ने उड़ान भरी है और हवा का रूख टिड्डी दल की दिशा तय करेगा। शनिवार सुबह हमने किसानो से बात की तो किसानो ने बताया कि प्रशासन और कृषि विभाग कुछ नहीं कर रहा वे अपने स्तर पर ही थाली, ड्रम, पीपा, ढोल और डीजे आदि बजाकर टिड्डियों को भगा रहे है। बीस से तीस प्रतिशत टिड्डियों को ही मारा गया है टिड्डिया उनकी फसलों पर बैठ रही है और नुकसान पहुंचा रही है और प्रसासन सब कुछ देख कर भी कुछ नहीं कर रहा है। किसानो का कहना था कि प्रसाशन की टिड्डियों को मारने और भगाने की तैयारियां अधूरी थी उनके पास पर्याप्त ट्रैक्टर नहीं थे जो खेतो के रास्ते जाकर टिड्डी दल को मार या भगा सके फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से स्प्रे कर सड़को व पेड़ो आदि पर बैठी टिड्डियों को ही मारा जा सकता है। यहाँ हम आपको बता दें कि रेवाड़ी जिले में पंद्रह दिनों में टिड्डियों का चौथी बार हमला हुआ है इससे पहले भी टिड्डी दल खोल ब्लॉक और कोसली के जाटूसाना ब्लॉक के कई गावों में तबाही मचा चूका है और उस समय कृषि मंन्त्री ने स्वयं पहुंचकर टिड्डी दल के हमले में हुए नुकसान का जायजा लिया था और नुकसान का आंकलन कर किसानो को विशेष गिरदावरी करवाने का आश्वासन दिलाया था लेकिन सवाल यह है कि नुकसान का आंकलन कब होगा और कब किसानो को उसका मुआवजा मिलेगा लेकिन बार-बार हो रहे टिड्डी दल के हमले से किसान पूरी तरह से डरे हुए है। शनिवार को बावल में हमला करने वाला टिड्डी दल राजस्थान की ओर बढ़ गया जबकि रेवाड़ी के जैतड़ावास गांव में रात्री ठहराव करने वाला टिड्डी दल महेंद्रगढ़ की और पलायन कर गया. लेकिन टिड्डी दल का खतरा अभी टला नहीं है टिड्डीयों के झुंड में काफी संख्या में टिड्डी दल बंट गया और प्रजनन व और अंडे देने के कारण ये किसानो के लिए फिर मुसीबत बन सकते हैं. 
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें