Bounsi News: राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर स्थानीय पत्रकारों को किया गया सम्मानित

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। भारत में हर साल 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है। पत्रकारों के अधिकार और सम्मान को बनाए रखने के लिए भारतीय प्रेस परिषद द्वारा राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष 56वां राष्ट्रीय प्रेस दिवस 2022 मनाया जा रहा है। 1966 में भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) की स्थापना को सम्मानित करने और स्वीकार करने के लिए हर साल 16 नवंबर को मनाया जाता है। यह वह दिन था जब भारतीय प्रेस परिषद ने यह सुनिश्चित करने के लिए एक नैतिक प्रहरी के रूप में कार्य करना शुरू किया था। प्रेस इस शक्तिशाली माध्यम से अपेक्षित उच्च मानकों को बनाए रखता है। भारतीय प्रेस परिषद का गठन पहली बार 4 जुलाई 1966 को एक स्वायत्त, वैधानिक, अर्ध-न्यायिक निकाय के रूप में किया गया था, जिसके अध्यक्ष श्री न्यायमूर्ति जे आर मुधोलकर थे, जो सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश थे। इसी कड़ी में बौंसी प्रखंड स्थित एम के पब्लिक स्कूल के प्रांगण में राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया गया। मौके पर स्कूल के डायरेक्टर राजीव कुमार 


सिंह,जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया के सलाहकार समिति सदस्य सह आसाम के न्यायाधीश विकास कुमार एवं डॉक्टर ऋषिकेश सिन्हा के द्वारा संयुक्त रूप से स्थानीय पत्रकारों को सम्मानित किया गया। मौके पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया के सलाहकार समिति सदस्य विकास कुमार ने कहा कि, यह दिन देश में एक जिम्मेदार और स्वतंत्र प्रेस के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1997 से, परिषद ने प्रासंगिक विषयों के साथ संगोष्ठियों के माध्यम से इस दिन को महत्वपूर्ण रूप से मनाया है। दुनिया भर में कई प्रेस/मीडिया परिषदें हैं, लेकिन प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए भारतीय प्रेस परिषद अपने कर्तव्य में एक अनूठी इकाई है, जहां प्रेस एक स्वतंत्र प्रकार का है जो चौथे स्तंभ के रूप में अपनी जिम्मेदारियों को महसूस करता है। प्रेस परिषद भारतीय प्रेस द्वारा प्रदान की जाने वाली रिपोर्ताज की गुणवत्ता की जांच करती है। यह यह भी सुनिश्चित करता है कि "किसी भी बाहरी कारकों के प्रभाव या खतरों" के कारण पत्रकारिता की निष्पक्षता से समझौता नहीं किया गया है। 1956 में, पहले प्रेस आयोग ने निष्कर्ष निकाला था कि पत्रकारिता में पेशेवर नैतिकता को बनाए रखने का सबसे अच्छा तरीका एक वैधानिक प्राधिकरण निकाय बनाकर प्राप्त किया जा सकता है जिसमें मुख्य रूप से उद्योग से जुड़े लोग शामिल हैं और गतिविधियों में मध्यस्थता कर सकते हैं। इसके कारण 1966 में प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया का जन्म हुआ। इस अवसर पर मुख्य रूप से स्थानीय पत्रकार, स्कूल की प्रिंसिपल निजात खान, शिक्षक रजनी कुमारी सहित अन्य शिक्षक गण उपस्थित थे। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education