Bounsi News: सीएनडी उच्च विद्यालय की जर्जर भवन हादसे को दे रहा आमंत्रण

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। बौंसी बाजार के डेम रोड स्थित सीएनडी उच्च विद्यालय की जर्जर भवन हादसे को आमंत्रण दे रहा है। बताते चलें कि, सन 1945 में स्थापित यह विद्यालय दिन प्रतिदिन जर्जर होता जा रहा है और हादसे को आमंत्रण दे रहा है। विद्यालय में नवम,दशम के अलावे इंटरमीडिएट के विज्ञान और कला संकाय की पढ़ाई होती है। ऐसे में यहां पर पठन-पाठन का कार्य डर के साए में किया जा रहा है। लगभग 77 साल पुराने इस विद्यालय भवन में 7 कमरे हैं। जिनमें दो कमरे ही छात्रों के बैठने लायक है। जबकि एक कमरा कई वर्षों से निर्माणाधीन है। जिसे आज तक पूर्ण नहीं किया जा सका है। जर्जर कमरे के अंदर छत की ढ़लाई की छड़े जवाब देने लगी है। छत के प्लास्टर का बड़ा बड़ा टुकड़ा अब अंदर गिरता है। जिसकी वजह से शिक्षक शिक्षिका सहित छात्रों में भी भय का माहौल व्याप्त है। नवम,दशम और इंटरमीडिएट विज्ञान और 




कला को मिलाकर यहां पर करीब 1200 छात्र छात्राएं नामांकित हैं। सन 2008 में तत्कालीन प्रधानाध्यापक के सेवानिवृत्ति के बाद आज तक यहां पर स्थाई प्रधानाध्यापक की प्रतिनियुक्ति नहीं हो पाई है। प्रभारी प्रधानाध्यापक के भरोसे विद्यालय का कार्यभार संभाला जा रहा है। यहां पर 25 शिक्षक शिक्षिका कार्यरत हैं। जिनमें 6 अतिथि शिक्षक हैं। इतना ही नहीं यहां पर संस्कृत,अंग्रेजी, हिंदी, सामाजिक विज्ञान और विज्ञान में एक-एक शिक्षक ही मौजूद हैं। कहने को तो यहां पढ़ाई के लिए 7 कमरे हैं। इन 7 कमरों में दो कमरे में ही पठन-पाठन का कार्य किया जा रहा है। बाकी कमरों की छत जर्जर हो चुकी है। बार-बार छत से चट्टाने गिर रही है। जिससे यहां पर पढ़ाई करने वाले छात्रों एवं शिक्षकों को भय बना रहता है। ऐसे में सरकार के साथ-साथ जिला प्रशासन को चाहिए कि, अविलंब इसकी मरम्मत कराने का कार्य करें। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education