Pakur News: पुलिस लाइन में बन रहे आवास में गड़बड़झाला,एसपी ने ठेकेदार को दिए सुधार करने का निर्देश.

                  पुलिस एसोसिएशन ने जताया ऐतराज


ग्राम समाचार,पाकुड़। झारखंड पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन एल एस यू एस   के स्वीकृति से लगभग ₹46  करोड़  की लागत से जिला मुख्यालय स्थित पुलिस लाइन में पुलिस कर्मियों एवं अधिकारियों के लिए आवास निर्माण का कार्य जारी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस आवास निर्माण में ठिकेदार द्वारा घोर अनियमितता बरती जा रही है। बताया जाता है कि कार्य का रूपरेखा प्राक्कलन से हटकर किया जा रहा  है।छतों पर ढ़लाई के लिए लगाई जा रहे छड़ो में हेराफेरी की गई है । इसकी भनक पड़ते ही एसपी मणिलाल मंडल ने बनाए जा रहे।  भवन की गुणवत्ता की जांच हेतु अधिकारियों के साथ स्वयं निर्माणाधीन आवास पर पहुंचकर  जांच की ।  एसपी मणिलाल मंडल ने आवास निर्माण करा रहे संवेदक का तथा एनपीसीसी के अभियंताओं से पूछताछ की है। निर्माण में लगाई जा रही छड़, इटो, व सीमेंट की गुणवत्ता  की जांच की है । अभियंता द्वारा छत ढलाई में  लगाई जा रही छड़ के लापरवाही के बारे में पूछते हुए कहां है  आपने किस आधार पर 16 एमएम की जगह में 12 एमएम व 20 के जगह  16 एमएम के  छड़ लगाए हैं ।एसपी ने    ठेकेदार को  स्पष्ट निर्देश दिया की पुलिस अधिकारियों के लिए बनाए जा रहे हैं आवास में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी और लापरवाही ना करें ।अधिक लाभ के चक्कर में लोगों के जीवन के साथ खेलने का अधिकार नहीं दिया जा सकता । कोई भी कार्य प्रकलान से हटकर ना करें। गुणवत्ता के आधार पर छाड़ ईट एवं सीमेंट का प्रयोग करें। एसपी मणिलाल मंडल ने कहा अधिक लाभ के चक्कर में ठेकेदार द्वारा छत  के सेंडिंग करने में लापरवाही बरती जा रही है। इसकी रिपोर्ट सरकार से की जाएगी। दूसरी ओर निर्माण में गड़बड़ी को लेकर झारखंड पुलिस एसोसिएशन एवं झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन ने भी अपनी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है । एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने कहा है कि  किसी भी कीमत पर भवन निर्माण में गुणवत्ता से समझौता नहीं किया जाएगा। संवेदक गुणवत्ता के आधार पर ही काम करें अन्यथा काम पर रोक लगाया जा सकता है।

ग्राम समाचार, पाकुड़ राजकुमार भगत की रिपोर्ट।


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education