Rewari News : मानवता के सच्चे सेवक, धर्म के रक्षक, महान शहीद गुरु अर्जुन देव जी की शहादत को कोटि-कोटि नमन

'हमारा परिवार' के तत्वाधान में ध्यान- साधना- सत्संग का कार्यक्रम "मनुष्य तू बड़ा महान है" का आनलाइन प्रसारण किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पंजाबी बिरादरी के प्रधान प्रेमनाथ गेरा व संस्था के संयोजक दिनेश कपूर ने कहा कि महान संत गुरु अर्जुन देव ने आदि ग्रंथ में संत कबीर, गुरु रविदास, गुरु नानक देव व अन्य संतों की वाणी का संग्रह किया। सुखमणि साहिब जैसे उत्तम ग्रंथ की रचना की। हरमंदिर साहिब को सुंदर स्वरुप प्रदान किया, ऐसे में बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्त गुरु जी के चरणो में आने लगे। चंदू शाह ने ईष्र्या वश मुगल बादशाह जहांगीर के कान भरे और कहा कि गुरु अर्जुन देव के अनुयायी बढ़ने लगे हैं तो आपके लिए खतरा बन जाएगा। 



जहांगीर ने गुरु जी को बुलवाया वह इस्लाम धर्म को कबूल करने को कहा‌, इसके लिए उन्हें भीषण लू में तपते तवे पर बैठाया गया गरम गरम रेता उन पर डाला गया, लेकिन गुरु जी शांत रहे व सिमरन करते रहे "तेरा भाणा मीठा लागे, हरि नाम पदार्थ नानक मांगे" अंततः उन्होंने अपना बलिदान देकर हिंदु धर्म की रक्षा की। संस्था के सह संयोजक प्रवीण ठाकुर व प्रधान अरुण गुप्ता ने गुरु जी को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि गुरुजी करुणा और दया की साक्षात मूर्ति थे। आज पूरे देश में उनके शहीदी दिवस 14 जून को मीठे पानी की छबीले लगाई जाती हैं व उन्हें श्रद्धा पूर्वक याद किया जाता है। कार्यक्रम में ध्यान, योगासन,प्राणायाम, लाफ्टर थेरेपी व एक्यूप्रेशर चिकित्सा का अभ्यास किया गया। सभी ने गुरु जी के चरणो में विश्व शांति की अरदास की। कार्यक्रम में पुरुषोत्तम नंदवानी, कपिल कपूर, मनीष, सोनिया कपूर ने सहयोग किया। कार्यक्रम के ऑनलाइन प्रसारण का बड़ी संख्या में लोगों ने लाभ लिया।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education