expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Chandan News:एमएम केजी उच्च विद्यालय चांदन के समीप चापानल पर पीपी किट होने से लोगो में दहशत व्याप्त

 ग्राम समाचार, चांदन, बांका। बांका (चांदन): इन दिनों पूरे देश में कोरोना जैसी महामारी ने हाहाकार मचा कर रखी है।जिसके कारण  लोग कहीं भी आने-जाने पर परहेज कर रहें है। लेकिन इसी बीच चांदन के उच्च विद्यालय के मैदान स्थित पक्की सड़क  के किनारे चापानल के समीप किसी अज्ञात लोगों के द्वारा एक पीपी किट फेंक दिया गया। जिसे लेकर चान्दन बाजार के लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। इसे लेकर पड़ोस के लोगों के द्वारा बताया गया कि कल रात को ही किसी अज्ञात व्यक्तियों द्वारा खेल मैदान स्थित चापाकल के किनारे यह पीपी किट खोल कर फेंक दिया है। यह किनं शरारती तत्वों का काम है इसका तो पता नहीं चल पाया है।



लेकिन इस पीपी कीट को देखते ही अगल बगल के घर और आसपास के लोगों में दहशत फैल गया है। ज्ञात हो कि इसी चापानल के पास रोजाना सब्जी बेचने वालों की लंबी कतार लगती है। जो चांदन - कटोरिया मुख्य पक्की सड़क के किनारे है। जहां रोड किनारे बाजार में यह एकमात्र ऐसा चापानल है जहां प्रखंड मुख्यालय के लगभग

  लोग पानी लेने यहां आते हैं। बताया जाता है कि इससे अच्छा चापानल का पानी पूरे प्रखंड में कहीं नहीं है। जिसे लेकर सुबह 4 से रात के 10 बजे तक इस चापानल पर पानी लेने वालों की लकीर लंबी कतार लगी रहती है। पर इस पीपी किट के कारण इस चापानल पर आज सुबह से ही लोगों का आना जाना बंद पड़ा है। साथ में सब्जी बेचने वाले और आने जाने वाले लोग भी इसको देखते ही दूसरी तरफ भाग जाते हैं। इस पर न तो स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक ध्यान दिया है ।और ना ही प्रशासन के किसी सदस्यों ने। लेकिन लोगों की परेशानी  इस पीपी किट ने काफी  बढ़ा दिया है।

और लोगों में दहशत का माहौल बनी हुई है। जबकि चांदन प्रखंड क्षेत्र में लगातार कोरोना पॉजिटिव केस मिलने की सूचना बताई जा रही है।

 उमाकान्त साह,ग्राम समाचार संवाददाता, चांदन।

Share on Google Plus

Editor - सुनील कुमार

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें