expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Bounsi News: पीएचईडी विभाग के कर्मी द्वारा 1 वर्ष पूर्व उखाड़ा गया खराब चापाकल, अब तक नहीं लग पाया उसके जगह नया चापाकल

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। 

प्रखंड क्षेत्र स्थित गज्जर गांव में पेयजल की समस्या से यहां के ग्रामीण परेशान हैं। इसका मुख्य कारण है, चापाकल का खराब होना। गज्जर गांव में सरकारी चापाकल खराब होने से ग्रामीणों की परेशानी बढ़ती जा रही है। गर्मी के लगातार बढ़ने से पेयजल की समस्या उत्पन्न हो रही है। परंतु पीएचईडी विभाग की लचर पचर व्यवस्था के कारण कई महीनों से खराब एवं टूटे हुए चापाकल को ठीक नहीं किया जा रहा है। जबकि सात निश्चय 

खराब पड़ा हुआ चापाकल का फोटो

योजना के तहत बिहार सरकार की ओर से नल जल योजना एवं खराब पड़े चापाकल की जांच कराई जा रही है। लेकिन इसके बावजूद भी, विभाग को कोई चिंता नहीं है। वहीं कांग्रेस के जिला महासचिव एवं वरिष्ठ समाजसेवी मदन मेहरा ने बताया कि, गज्जर गांव के चापाकल में मीठा जल होने के कारण यहां के ग्रामीण इस जल का प्रयोग करते हैं एवं दूसरे मोहल्ले के लोग भी यहां से जल ले जाते हैं। लेकिन खराब पड़े चापाकल के कारण यहां के ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जबकि कई बार विभिन्न समाचार पत्रों में खबर प्रकाशित हो चुकी है। तब कहीं जाकर एक चापाकल को ठीक किया गया है। इतने बड़े गांव 

ठीक किए गए चापाकल का फोटो

में एक चापाकल ठीक होने से ग्रामीणों की पेयजल की समस्या समाप्त नहीं हो सकती है। फिर भी विभाग की नजर ना तो इस खराब पड़े चापाकल पर है और ना ही उसे सरकार का खौफ है। वहीं दूसरी ओर गज्जर गांव स्थित भैयहरन स्थान के समीप सड़क किनारे का खराब चापाकल पीएचईडी विभाग के कर्मी के द्वारा उखाड़ लिया गया। वही जब ग्रामीणों से इस संदर्भ में बात की गई तो उन्होंने कहा कि, लगभग 1 वर्ष पूर्व पीएचईडी विभाग के कर्मी के द्वारा भैयहरन स्थान के समीप सड़क किनारे खराब चापाकल को पूरी तरह उखाड़ लिया गया। जब ग्रामीणों ने 

चापाकल उखाड़ने के बाद बोरिंग का फोटो

इसका विरोध किया तो, कर्मी द्वारा कहा गया कि, बगल में दूसरा नया चापाकल लगा दिया जाएगा। परंतु आज तक ना तो उसे ठीक किया गया और ना ही नया चापाकल बैठाया गया। 

क्या कहते हैं पीएचईडी विभाग के जेई 

वहीं जब पीएचईडी विभाग के जेई से टेलिफोनिक बात की गई तो, उन्होंने कहा कि साल भर पहले सरकार द्वारा स्कीम निकाला गया था की, पुराना चापाकल को उखाड़ कर, जो कि खराब है, पानी नहीं दे रहा है, ऐसे चापाकलों को चिन्हित कर उखाड़ लिया जाए और उसके जगह पर नया चापाकल बैठाया जाए। इसी वजह से उक्त चापाकल को उखाड़ा गया था। हालांकि जनवरी में जॉइनिंग होने के कारण उनके संज्ञान में यह बातें नहीं आई थी। फिर भी उन्होंने आश्वासन दिया है कि, खराब पड़े चापाकल को जल्दी ठीक कराया जाएगा। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि, मारवाड़ी गली में भी एक चापाकल खराब पड़ा हुआ है। उसे भी जल्दी ही ठीक कराया जाएगा। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें