expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Chandan News: हल्का कर्मचारी द्वारा लापरवाही से भू राजस्व रसीद में खाता खसरा अंकित नही रेयत होते परेशान

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। चांदन प्रखंड के अंतर्गत गौरीपुर पंचायत के बिरनिया निवासी प्रकाश तांती विशेष सर्वे के लिए जमीन संबंधी रशीद कटाने को लेकर ही परेशान देखा गया। जानकारी के अनुसार प्रकाश तांती ने अंचल कार्यालय हल्का कर्मचारी के पास से रसीद कटाने के लिए लगान वसूली में 1400 सौ रुपया देकर रसीद प्राप्त किया। रसीद कटवाने के बाद प्रकाश तांती घर पहुंचा। अनपढ़ होने के कारण लोगों से रसीद पढ़वाया जिस पर ना तो खाता है नाही खसरा इस कारण से पुनः शुद्धीकरण के लिए अंचल कार्यालय का चक्कर लगा रहा हैं प्रेस वार्ता में प्रकाश तांती ने बताया कि मैं काफी परेशान हूं अब सर्वे के दौरान सर्वे फॉर्म क्या भरूंगा यह कहना मुश्किल है लगान तो दे दिया रसीद भी मिल गई पर खाता खेसरा नहीं मिला इस कारण मुझे लगता है कि मेरी जमीन सर्वे में कहीं छूट न जाए बार-बार हल्का कर्मचारी के पास जाने के बाद 

रसीद पर अंकित करने के लिए खाता खसरा का आश्वासन दिया जाता है परंतु काम होता नहीं ,मैं परेशान हूं मैंने परेशानी के कारण इंफॉर्मेशन स्लिप खाता खेसरा के लिए रजिस्ट्री किया हूं तब भी मुझे नहीं मिला है जबकि रसीद कटाते समय मैंने पुरानी रसीद हल्का कर्मचारी को दिया जिस पर खाता खेसरा सभी मौजूद था पुरानी रशीद को रखकर मुझे नई रसीद दीया जिसमें खाता खेसरा नहीं लिखा और पुरानी रसीद भी वापस नहीं किया इस कारण में काफी परेशान हूं। इस तरह का मामला रैयतों के साथ होना चिंता का विषय बना हुआ है ,जब अंचल कार्यालय हलका कर्मचारी द्वारा के ही जल्दी बाजी में रसीद काटने को लेकर लगान का पैसा वसूली कर रशीद के नाम पर सिर्फ कोरा कागज दे दे तो वह रसीद रैयत का किस काम का होगा और उसकी वैधता क्या होगी यह प्रकाश तांती के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। 

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन,बांका।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें