expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : एनएच-71 पर किसानों का टोल फ्री रखे जाने के लिए अनिशिचत कालीन स्थायी धरना आरम्भ

एन एच-71 गंगायचा टोल प्लाजा पर भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) रेवाड़ी जिला संगठन एवम भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन रेवाड़ी के संयुक्त सहयोग से गत 4-5 दिनों से चल रहा टोल फ्री कार्यक्रम को आगे संयुक्त किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर अनिश्चित कालीन टोल फ्री रख्खे जाने के संघर्ष में किसान विरोधी तीनो काले कर्षि कानूनों को वापिस लिए जाने,तथा एम एस पी को कानूनी जामा पहनाये जाने तक प्लाज़ा पर अनिश्चित कालीन धरना आरम्भ किया गया है,जो किसानों की मांगे माने जाने तक मजबूती से जारी रख्खा जाएगा। भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान समय सिंह ने कहा कि किसानों के सहयोग से इस अंधी,गूंगी ,बहरी सरकार को किसानों के संघर्ष भरे आंदोलन के सामने घुटने टेकने ही पड़ेंगे तथा किसानों की वास्तविक मांगे माननी ही पड़ेगी। एडवोकेट कामरेड राजेन्द्र सिंह ने इस कॉरपोरेट घरानों की किसान हित विरोधी सरकार को पूंजीपतियों की कठपुतली सरकार द्वारा किसानों के विरोध में बनाये गए तीन काले कर्षि कानूनो को वापिस लिए जाने तक  किसान मजदूर संगठन का संघर्ष मजबूती से जारी रखने के लिए अपना संकल्प दोहराते हुए टोल प्लाजा पर किसानों को इस पावन हवन में अपनी आहुति देने के लिए प्रोत्साहित कर संबोधित किया ।



भारतीय किसान यूनियन जिला रेवाड़ी के उप प्रधान कुलदीप सिंह ने भी आस-पास गांवो के किसानों को टोल प्लाजा पर अधिक से अधिक संख्या में पहुंच कर सरकार पर काले कानून वापिस लिए जाने का ठोस दबाव बनाए जाने के लिए संघर्ष में पहुंचने के लिए आह्वान किया। संघर्ष परदर्शन स्थल पर रेवाड़ी ब्लाक प्रधान चुन्नी लाल, गूगन सिंह, राजकुमार, तरुण कुमार, जयप्रकाश बालावास जमापुर, हरिन्दर मस्तपुर, गजराज सिंह पूर्व सरपंच पालहवास, वैद कुमार, पंकज जांघू लाला गांव, नरेंद्र कुमार उर्फ मोदी-रोहड़ाई आदि किसान शामिल रहे ।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें