expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Godda News: भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र के तत्वाधान में एक दिवसीय धरना सत्याग्रह कार्यक्रम किया गया


ग्राम समाचार गोड्डा, ब्यूरो रिपोर्ट:- भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र (सीटू) कार्यालय प्रभारी पंकज कुमार झा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि सीटू के जिला अध्यक्ष बबीता कुमारी आनंद ने आज दिनांक 8 .01.2020 को, केन्द्र सरकार के द्वारा लाये गये तीन कृषि कानूनों के विरोध में 45 दिनों से चल रहे किसानों के देश व्यापी राष्ट्रीय आंदोलन के तहत सीटू (भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र) एवं किसान सभा गोड्डा जिला की ओर से गोड्डा के अशोक स्तंभ पर मजदूरों एवं किसानों का धरना सत्याग्रह संपन्न हुआ। यह ज्ञात हो कि किसानों के लिए बनाये गये तीन काले कानूनों के विरुद्ध देश में और खासकर दिल्ली की सीमा पर किसानों का 45 वाँ. दिन महासंग्राम चल रहा है। किसानों के इस संघर्ष को देश के मजदूरों द्वारा सीटु(CITU) के नेतृत्व में तथा किसान सभा के नेतृत्व में तीनों काले कानूनों को हटाने के लिये लगातार संघर्ष चलाया जा रहा है। इसका नेतृत्व संयुक्त रूप से सीटु(CITU)के महामंत्री उमेश प्रसाद मिश्रा ,किसान सभा जिला कमेटी सदस्य रघुवीर मंडल, उपाध्यक्ष दशरथ मंडल, बबीता आनंद सीटु(CITU)जिला अध्यक्ष, पंकज कुमार झा सीटु(CITU) कार्यालय मंत्री, सिटु नेता मीनू मुर्मू ,प्रीति हाँसदा , द्रोपदी किस्कु , जनवादी महिला जिला सचिव हदीसा खातून , मो० जानकी, मंगली देवी, सीतावी साह, अवध किशोर ठाकुर ,रजनीकांत तिवारी आदि दर्जनों साथियों के द्वारा किया गया।बबीता कुमारी आनंद ने बताया की इन तीनों कृषि कानूनों से जहाँ पुँजीपतियों का मुनाफा बढ़ेगा वही आम जनता के लिए महंगाई भी बढ़ेगी। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से जहां भारतीय किसान बड़े-बड़े उद्योगपतियों के गुलाम हो जाएंगे ,वही मुट्ठी भर लोग कृषि उत्पादन के तमाम संसाधनों का मालिक बन जाएगा। पूंजीपति अनाजों को गोदाम में तब तक रखेंगे जब तक कि लोग भूख से बिलबिलाने नहीं लगेंगे। अनाज पर भी पूंजीपतियों का आधिपत्य हो जाएगा और आम जनता को महंगाई दर पर अनाज खरीदना पड़ेगा भारत जैसे कृषि प्रधान देश जहां 40% लोग गरीबी रेखा के नीचे जी रहे हैं, करोड़ों लोग बेरोजगार हैं ,सबसे ज्यादा लोग भुखमरी के शिकार हैं, ऐसे देश में इस तरह का कानून बनाना न केवल लोकतंत्र और आम जनता के खिलाफ है, बल्कि खतरनाक भी है। हमें इस कृषि बिल का पुरजोर विरोध करना चाहिए। सीटू के महासचिव उमेश मिश्रा ने बताया कि पूरे देश में कृषि कानून के खिलाफ किसान ऐतिहासिक रूप से संगठित हो रहे हैं और इस काले कानून का पुरजोर विरोध कर रहे हैं ।हम किसानों के संघर्ष के साथ हैं।वक्ताओं ने किसानों का दिल्ली में 45 वाँ दिन चल रहे संघर्ष के समर्थन में आज देशव्यापी सत्याग्रह आन्दोलन अभियान में किसानों के 10 सूत्री मांगों को लेकर धरना संपन्न किया

            

Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें