expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Chandigarh News : हरियाणा की सभी मंडियों में बाजरा किसानों के लिए प्रतिदिन टोकन की संख्या में तीन गुना वृद्धि

 स्वराज अभियान के जय किसान आंदोलन ने आज प्रदेश के बाजरा किसानों के लिए एक बड़ी राहत हासिल की जब सरकार ने आंदोलन की मांग स्वीकार करते हुए मंडियों में प्रतिदिन खरीद के टोकन की संख्या तीन गुना बढ़ाने का फैसला किया। अब तक पूरे प्रदेश में प्रतिदिन केवल 3,419 किसानों को मंडी में खरीद का एस एम एस भेजा जाता था यह संख्या बढ़ाकर आज से 9,520 कर दी गई है। सरकार ने यह फैसला भी किया है कि अब शनिवार को भी सामान्य दिन की तरह ही बाजरा की खरीद की जाएगी। सरकार ने किसानों की रुकी हुई पेमेंट शुरू कर दी है और यह आश्वासन दिया है कि बचा हुआ पेमेंट जल्द से जल्द किसानों के खाते में डाल दिया जाएगा।

इस फैसले का मुख्य लाभ दक्षिणी हरियाणा के महेंद्रगढ़, भिवानी, रेवाड़ी, गुरुग्राम और मेवात जिले की किसानों को होगा जहां अधिकांश किसान बाजरा की फसल उगाते हैं। प्रतिदिन सरकार द्वारा जारी किए गए टोकन की संख्या रेवाड़ी जिले में 556 से बढ़ाकर 1,632 कर दी गई है, जबकि जिला महेंद्रगढ़ में यह संख्या 855 से बढ़ाकर 2,094, भिवानी जिले में 622 से बढ़ाकर 1,890 , चरखी दादरी में 390 से बढ़ाकर 1,220 झज्जर में 386 से बढ़ाकर 994 गुरुग्राम में 300 से बढ़ाकर 860 तथा मेवात में 310 से बढ़ाकर 830 कर दी गई है। यह सभी परिवर्तन आज से ही लागू हो जाएंगे।

पिछले सप्ताह योगेंद्र यादव के नेतृत्व में जय किसान आंदोलन के प्रतिनिधि मंडल ने प्रदेश के 7 जिलों में 12 मंडियों का दौरा किया था और बाजरा किसान द्वारा को पेश आ रही समस्याओं के बारे में एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार की थी। इस रिपोर्ट में रेखांकित किया था कि सरकारी खरीद जितनी धीमी गति से हो रही है उससे किसान परेशान हैं और 15 नवंबर से पहले खरीद पूरी होने की कोई संभावना नहीं है। मंडी में टोकन बढ़ाए जाने की मांग को लेकर जय किसान आंदोलन रेवाड़ी मंडी में पिछले 8 दिन से धरना पर बैठा हुआ है। यह रिपोर्ट योगेंद्र यादव ने कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल से भिवानी में भेंट कर उन्हें सौंपी थी। पिछले दो दिन से प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों की योगेंद्र यादव से वार्तालाप चल रही था जिसके निष्कर्ष में कल शाम को यह निर्णय लिए गए।

सरकार के इस फैसले पर संतोष व्यक्त करते हुए योगेंद्र यादव ने कहा कि अब यह उम्मीद की जा सकती है कि 15 नवंबर से पहले सभी पंजीकृत किसानों का बाजरा खरीद लिया जाएगा। उन्होंने पड़ोसी राज्यों से चोरी छुपे बाजरा लाकर किसानों के नाम पर बेचने की खबरों पर चिंता व्यक्त की और किसानों और व्यापारियों से इसके बारे में स्थानीय प्रशासन को सूचित करने का अनुरोध किया। जय किसान आंदोलन के प्रदेश अध्यक्ष युद्धवीर अहलावत ने किसानों को पेमेंट अभी भी शुरू ना होने पर चिंता जताते हुए यह आशा भी व्यक्त की कि जय किसान आंदोलन की रिपोर्ट में सरकारी खरीद की व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए जो दूरगामी सुझाव दिए गए हैं उन्हें सरसों और गेहूं की खरीद के समय तक लागू कर दिया जाएगा। योगेंद्र यादव ने हरियाणा के किसानों की तरफ से कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल को इस मामले में तुरंत दखल देने के लिए व प्रदेश के कृषि आयुक्त श्री पीके दास वह कृषि सचिव देवेंद्र सिंह और आईटी सचिव उमाशंकर को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। 

सरकार की इस घोषणा के बाद रेवाड़ी में किसानों का अनिश्चितकालीन धरना उठा लिया गया। जय किसान आंदोलन के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दीपक लांबा ने इसे किसानों के संघर्ष की विजय बताया। उन्होंने कहा कि पिछले चार साल में स्वराज अभियान के संघर्ष की वजह से दक्षिण हरियाणा के बाजरा किसानों की स्थिति में आमूलचूल फर्क आया है।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें