expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : भाड़ावास गेट पर बरसात में जलभराव की समस्या से लोग हो रहे परेशान. लाखो रुपए खर्च कर बनाया गया नाला हुआ बेकार साबित

रेवाड़ी : मॉनसून की बारिस का लोग बेसब्री से इंतजार करते हैं लेकिन रेवाड़ी शहर के लोग अब बारिस से डरने लगे हैं. इसका कारण यह है कि यहां बरसात में पानी निकासी के समुचित प्रबंध नहीं है जिस कारण बाजारों में जलभराव की समस्या उत्पन्न होती है. हम बात कर रहे हैं रेवाड़ी के भाड़ावास गेट की जहां हल्की बारिस होते ही पानी भर जाता है. अधिक बारिस होने पर तो हालात और खराब हो जाते हैं. बारिस के बाद हुए जल जमाव से लोग काफी परेशान हैं. उनका कहना है कि नगर परिषद की लापरवाही है कि बरसात के मौसम में सड़कों पर इतना पानी भर जाता है और जल निकासी नहीं होने के कारण पानी हर समय यहाँ जमा रहता है. वैसे तो प्रशासन बड़े बड़े दावे करता है लेकिन बारिस उन सभी दावों की पोल खोल देती है. हालांकि यहां नप द्वारा अभी छह माह पूर्व लाखों रुपये खर्च कर नाला भी बनाया गया लेकिन पूरा नहीं बनने और सड़क से ऊंचा होने के कारण पानी नाले में जाने की बजाय सड़कों पर ही फैला रहता है इसके अलावा दो साल पहले लाखों की लागत से बिछाकर बनाया वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम भी बेकार हो गया. जिस कारण ग्राहक आने से कतराते है. आलम यह है कि बाजारों में ग्राहक नहीं आते हैं और उनकी दुकानदारी प्रभावित हो रही है इससे पहले लॉक डाउन में काम नहीं था और अब रही सही कसर मॉनसून के सीजन में पूरी हो रही है. जिसके चलते बाजार एसोसिएशन में प्रशासन के प्रति भारी रोष है. जब इस बारे में हमने नप अधिकारियों से बात करनी चाही तो उन्होंने कैमरे के सामने बोलने से मना कर दिया और कहा कि रेवाड़ी का वॉटर ड्रेनेज सिस्टम काफी पुराना हो चुका है भाड़ावास गेट पर जलभराव की समस्या के बारे में बाजार के लोग उनसे मिलने आए थे उन्होंने जल्द इस समस्या के समाधान की बात कही है. 

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें