expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Bhagalpur News: अनाज वितरण में गड़बड़ी को लेकर अभिवावकों ने किया हंगामा

शनिवार को अकबरनगर थाना क्षेत्र के मध्य विद्यालय इंग्लिश चिचरौंन में बच्चों को मिलने वाली एमडीएम का अनाज कम देने पर अभिभावकों ने स्कूल परिसर में तीन घण्टे तक जमकर हंगामा किया।साथ ही स्कूल वयवस्था पर नराजगी जाहिर किया।मिली जानकारी के अनुसार इंग्लिश चिचरोंन के ग्रामीण महिला अनीता देवी, अंजू देवी, ममता देवी, जितेंद्र राय, संजीव दास, राजीव दास आदि ने बताया कि कक्षा 2 से 5 तक के बच्चों को 8 किलो और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 12 किलो चावल मिलता है लेकिन कक्षा दो से पांचवी तक के बच्चों छह किलो चावल दिया जा रहा है। वही आठवीं कक्षा के बच्चों को 10 से 11 किलो चावल दिया जा रहा है ।

अभिभावकों का आरोप है कि बिना नाप के बाल्टी और कमंडल के निशान से भरकर चावल दिया जा रहा है।साथ ही स्कूल में जिन बच्चों का नाम है उसे भी चावल से वंचित किया जा रहा है। विरोध करने पर स्कूल के शिक्षक ज्योति और राजीव कुमार मारपीट करने पर उतारू हो जाते हैं।शनिवार को कम अनाज देने से नाराज ग्रामीणों ने तीन घण्टे तक शिक्षक व रसोइया के खिलाफ हंगामा किया।जिससे स्कूल का माहौल खराब हो गया।

शिक्षा समिति के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हुआ।ओर सोमवार को इस मामले को लेकर बैठक कर विचार विमर्श करने की बात कही ।इस सबन्ध में प्रधानाध्यापक रविन्द्र कुमार ने बताया कि हर बोरा में अनाज की वजन कम आता है।जिससे थोड़ा बहुत वजन वितरण में कम हो गया है। लेकिन किसी भी बच्चे को चावल से वंचित नही किया है।

उन्होंने बताया कि कुल 342 बच्चों के बीच चावल का वितरण किया जाना है।जिसके  लिए कुल 3228 किलो चावल स्टॉक में उपलब्ध है।जिसमे कक्षा दो से पांच तक के बच्चों में वितरित किया गया है। फिलहाल वितरण रोक दिया गया है।विद्यालय की कोर कमिटी की बैठक के बाद वितरण चालू किया जाएगा।

          -रजनीश कुमार, ग्राम समाचार,अकबरनगर (भागलपुर)।

Share on Google Plus

Editor - रजनीश कुमार

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें