expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pathargama News: कीचड़ पसरे सड़क पर धान रोपकर ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शन



सड़क पर धान रोपते ग्रामीण 
ग्राम समाचार, पथरगामाः- लगभग 12 सौ की आबादी वाला सोनार चक गांव के मुख्य प्रवेश पथ स्थित यादव टोला की सड़क पर बारहो मास जलजमाव होने से लोगों के आवागमन में भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।पंचायत स्तरीय जनप्रतिनिधि को कई बार लोगों ने नाला बनवाने की बात कही परंतु उनकी मांग आज तक पुरी नहीं हो पाई है।हिंदू समाज में पवित्र माह सावन का एक विशेष महत्व होता है।सावन के सोमवार को व्रत होने के चलते शिवालय में पूजा करने जाने वाले व्रतियों को इसी गंदे जल से अपवित्र होकर गुजरना पड़ता है।इस गांव का पथरगामा में खासा महत्व है।यही के लोग पत्थर गामा बाजार में सब्जी का व्यापार करते हैं।सोनार चक के इस सड़क पर लगातार आवागमन जारी रहता है।जाहिर सी बात है ऐसे में लोगों को परेशानी तो होगी ही।यही परेशानी रात में कुछ ज्यादा हो जाती है।साल भर पूर्व इसी सड़क के किनारे नाला बनवाने की मांग को लेकर छात्र-छात्राओं ने भारी बवाल काटा था।बार-बार नाला बनवाने यह मांग करने के बावजूद मांग पूरी नहीं होने से आक्रोशित कीर्तनया देवी, भागो देवी, पिंकी देवी, गायत्री देवी, अरुणा देवी, पारो देवी, सुलोचना देवी, रूपम देवी, शमशुल बीबी, अनिल कुमार यादव, कलयुग कुंवर आदि ने कीचड़ से लथपथ इस सड़क पर धान के बिचड़ा का रोपनी कर अपने विरोध का प्रदर्शन किया।इस संबंध में पूछे जाने पर मुखिया सरस्वती देवी के प्रतिनिधि धीरज कुमार भगत ने कहा कि नाला नहीं बनाये जाने के बीच में सबसे बड़ा अड़चन अतिक्रमण बना हुआ है।लोग अपने घरों को बढ़ाकर सड़क तक कर लिया है।बहुत लोगों ने मिट्टी को भरकर अपने दरवाजे को ऊंचा कर दिया है।कहा कि कई बार हम लोगों ने सड़क को साफ करवाया है।परंतु लोगों ने सड़क के जमीन को अतिक्रमण कर लिया है जिसके चलते नाला बनाने का जगह ही नहीं बच पा रहा है।इसलिए नाला नहीं बनाया जा पा रहा है|
  -: अमन राज, पथरगामा :-
Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें