Bhagalpur News:हम भारत के बैनर तले एनआरसी, एनआरपी और सीएए के विरोध में सम्मेलन आयोजित

ग्राम समाचार, भागलपुर। शहर स्थित स्थानीय गांधी शांति प्रतिष्ठान केंद्र में शुक्रवार को "हम भारत के लोग" के बैनर तले एन आर सी, एन आर पी और सी ए ए विरोधी सम्मेलन हुआ। सम्मेलन की अध्यक्षता वरिष्ठ सामाजिक कर्मी रामशरण ने एवं संचालन हम भारत के लोग के सह संयोजक डॉ. नीरज ने की। सम्मेलन में बड़ी संख्या में दलित विकास समिति, झुग्गी झोपड़ी संघर्ष समिति, दियारा गंगा मुक्ति आंदोलन, संविधान बचाओ देश बचाओ समिति एवं सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन, गांधी शांति प्रतिष्ठान केंद्र, राष्ट्र सेवा दल, वामपंथी, अम्बेडकर वादी, गगांधीवाद, समाजवादी, सामाजिक न्याय वादी कार्यकर्ता शामिल हुए। कार्यक्रम का प्रारंभ मो. एकराम हुसैन शाद, संगीता, लाडली राज, दुर्गा, कोमल, दीप प्रिया आदि के गीत गजल से हुआ। बातचीत की शुरुआत करते हुए उदय ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून, एन आर सी और एन आर पी आरएसएस और बीजेपी का स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्य का विरोधी एजेंडा है। ये लोग नहीं चाहते थे कि बराबरी वाला संविधान लागू हो, लोकतंत्र आये, इसलिये गांधी की हत्या की। डॉक्टर चक्रपाणि हिमांशु वे मनुवाद लाना चाहते हैं। हम मानवतावाद लाना चाहते हैं। ये काला कानून केवल मुस्लिम विरोधी नहीं बल्कि गरीब विरोधी है। अधिवक्ता अरुणाभ शेखर ने ये आह्वान किया कि हम अप्रैल से शुरुआत होने वाले एन आर पी की प्रक्रिया का बहिष्कार करें। उसमें हम नाम नहीं लिखाएं, कर्मचारियों का साथ न दें। ऐनुल होदा ने कहा कि आज मुस्लिम समाज घरों से निकल पड़े हैं। मुसलमान किसी को नेता बनाने के पक्ष नहीं है, बल्कि मुसलमान का एक ही निशाना है साम्प्रदायिक फासिस्टों को सत्ता से उखाड़ फेंकना। ति. मां. भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर डॉ. विलक्षण रविदास ने कहा कि आरएसएस / हिन्दू महासभा और आज का बीजेपी संविधान विरोधी हैं। इन लोगों ने एससी/एसटी उत्पीड़न एक्ट को शिथिल कर और सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण देकर संविधान को खत्म करने का खेल शुरू कर दिया है। डॉ. प्रो अर्जुन प्रसाद ने कहा कि आरएसएस देश से लोकतंत्र खत्म करना चाहता हैं। वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता रामशरण ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि यह सरकार मनुविधान की ओर बढ़ रहा है। मनुविधान को आगे बढ़ाने के लिए ही वे साधु सन्यासी सन्त स्वामी का इस्तेमाल कर रहे हैं। कोई यह कह कर स्त्री शिक्षा को रोकना चाहता है कि पढ़ने लिखने से तालाक बढ़ रहा है। कोई लड़कियों के पीरियड सम्बंधी दकियानूसी बयान दे रहा है। दूसरे सत्र की अध्यक्षता राम नारायण भास्कर एवं संचालन सार्थक भरत ने किया। पैनल में राष्ट्रसेवा दल की दीप प्रिया, रिज़वान खान, गांधी पीस फाउंडेशन के संजय, एआईडीएसओ के रौशन रवि एवं गौतम बनर्जी शामिल थे। अंत में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि अपने अपने संगठनों  में प्रस्ताव लें, सभी इस संदर्भ में अपने क्षेत्र में प्रशिक्षण करें, नुक्कड़ सभा, पर्चा वितरण आदि भी किया जाए। सम्पर्क यात्रा निकालकर आम जन को बताया जाय। दलित पिछड़ों, महिलाओं और अल्पसंख्यकों को एकजुट करना। 24 अक्टूबर को दाउद बाट झुग्गी झोपड़ी में बैठक होगी। कार्यक्रम में रामकिशोर, शारदा श्रीवास्तव, नसीमा खातून रिज़वान खान, योगेंद्र मालाकार, मो कासिम, अर्जुन शर्मा, रामपूजन, मो.तालिब, वासुदेव भाई, संजय, कृष्णानंद सागर, रिंकू यादव, अंजनी विशु, रोशन, सार्थक भरत, ललन, अभिजीत, मो शमीम, हुमायूं, गौतम बनर्जी, मनीष, मौलाना जफर आदि ने शिरकत की। 
Share on Google Plus

About Bijay shankar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment