Chandan News: कड़ाके की ठंड पर प्रशासनिक व्यवस्था पर सवालिया निशान

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। पौष माह के अंत पिछले 10 दिनों से प्रखंड क्षेत्र में पड़ रही कड़ाके की ठंड से लोगों का जीना बेहाल हो गए हैं। हाड़ हिला देने वाली ठंड से जनजीवन प्रभावित हो गया है। इसके बावजूद अंचल प्रशासन लोगों को राहत पहुंचाने के लिए अलाव जलवाने के प्रति गंभीर नहीं है।अलाव जलवाने के नाम पर सिर्फ कागजी कोरम पूरा किया जा रहा है। जबकि कड़ाके की ठंड से पूरा जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। शीतलहर की चपेट में पूरा प्रखंड इस समय है। वहीं जानकारों की मानो तो रात के तापमान 6 डिग्री तक तो दिन में अधिकतम 10 डिग्री सेल्सियस तक का पारा चढ़ गया है। इस संदर्भ में चांदन प्रखंड के भाजपा जिला मंत्री चंदन सिन्हा, भाजपा प्रखंड अध्यक्ष मनीष शर्मा, पूर्व 

पंचायत समिति बैजनाथ यादव, पूर्व मुखिया छोटन मंडल, समसुल अंसारी, मुख्तार अंसारी, मनोज केसरी, राजू दुबे, भैरोगंज बाजार से धर्मेंद्र बरनवाल,दिलानन्द दास, पुर्व मुखिया पप्पू दास सहेंदर दास के अलावा दर्जनों ग्रामीणों ने अंचल प्रशासन से चांदन बस स्टैंड, अस्पताल गेट, ब्लॉक गेट, गांधी चौक,सुइया बाजार के हनुमान मंदिर चोक सहित भैरोगंज बाजार स्थित चोक चौराहा के अलावा सार्वजनिक स्थलों पर अलाव जलवाने की मांग की है, जिससे पछुआ हवा से बढ़ रही शीतलहरी से आमजन को राहत मिल सके। ज्ञात हो हर वर्ष हर वर्ष जिला प्रशासन द्वारा ठंड से बचने के लिए लोगों को अलाव की पर्याप्त व्यवस्था कराई जाती है। लेकिन इस बार, नहीं तो अंचल कर्मी और नहीं तो जनप्रतिनिधि द्वारा अलाव की व्यवस्था किया है। ख़ास कर रोज मर्रा काम करने वाले दिहाड़ी मजदूरी करने वालों पर असर दिखने को मिल रही है। अब देखना है कि खबर खबर छपने के बाद अंचल प्रशासन लोगों को किस प्रकार ठंड से निजात दिलाने में मदद करता है।

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।


Share on Google Plus

Editor - कुमार चंदन,ब्यूरो चीफ,बाँका,(बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education