Rewari News : भगवान बिरसा मुंडा की जयंती "जनजातीय गौरव दिवस" पर प्रधानमंत्री मोदी से मांग की




ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी : आजादी के अमृत महोत्सव काल में भगवान बिरसा मुंडा की 147वीं जयंती "जनजातीय गौरव दिवस" एवं भूदान आंदोलन के प्रणेता संत विनोदा भावे के स्मृति  दिवस पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय संगवाड़ी में पुष्पांजलि अर्पित कर स्वच्छ भारत मिशन हरियाणा सरकार के तत्वाधान में पौधारोपण कर मनाई गई। कार्यक्रम में शिक्षा और खेलों के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रतिभावान छात्राओं शिवानी, मिलन, दीपिका दिव्या, निकिता को महान ग्रंथ गीता और पौधे भेंट कर सम्मानित किया गया।इस अवसर पर जितेंद्र बाल्मीकि ने कहा बिरसा मुंडा का संपूर्ण जीवन आदिवासियों के हितों हेतु समर्पित रहा।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ. आर.के. जांगड़ा, विश्वकर्मा सदस्य, स्वच्छ भारत मिशन हरियाणा सरकार एसटीएफ ने कहा भगवान बिरसा मुंडा ने समाज,संस्कृति और देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी।दूरदर्शी व्यक्तित्व के धनी मुंडा द्वारा ब्रिटिश सरकार के खिलाफ विद्रोह का मुख्य उद्देश्य आदिवासियों को पारंपरिक भूमि अधिकार बहाल कराना था जिसे औपनिवेशिक और स्थानीय अधिकारियों ने कुचल दिया था। आजादी के बाद बिरसा मुंडा की शहादत को तो याद रखा, लेकिन हम उनके मूल्यों,आदर्शों एवं प्रेरणाओं से दूर होते गयें। अंग्रेजों के शोषण के खिलाफ आंदोलन करने वाले बिरसा मुंडा कों अपनी शहादत के बाद भगवान का दर्जा मिला था। उनका नारा था "रानी का राज खत्म करो-हमारा साम्राज्य स्थापित करो"। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आजादी के अमृत काल में देश ने तय किया कि भारत की जनजाति परंपराओं और इसकी शौर्य गाथाओं को अब और भव्य ऐतिहासिक पहचान मिलेगी। डॉ. विश्वकर्मा ने कहा उस समय स्वतंत्रता संग्राम का उद्देश्य भारत की सत्ता प्राप्ति, भारत के लिए निर्णय लेने की अधिक शक्ति भारतीयों के हाथों में स्थापित हो। अंग्रेजी हुकूमत भारतीय जनजाति समाज की पहचान मिटाना चाहती थी। उन्होंने छोटे से कालखंड में देश के लिए इतिहास लिखा और भारत की आने वाली पीढ़ियों को देश की आजादी का सपना देखने हेतु जल, जंगल और जमीन की लड़ाई लड़नें का संदेश दिया। वीर सपूत मुंडा अपने देश की अस्मिता की लड़ाई से कभी डरे नहीं सदैव उनका संघर्ष जारी रहा। महापुरुषों ने अपने और अपनी पीढ़ी को सुरक्षित करने तथा प्रकृति को संरक्षित करने की लड़ाई लड़ी।उन्होंने विद्यार्थियों को कहा आज  भौतिकवादी युग के साथ-साथ हम अपने अतीत के इतिहास को जाने और समझें। उन्होंने कहा हम अपनी भाषा और संस्कृति को संजोकर कर रखें।आजादी के अमृत महोत्सव में प्रधानमंत्री मोदी ने इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा स्थापित करनें व आजाद हिंद फौज के गुमनाम सेनानियों को स्वतंत्रता सेनानी का दर्जा देने हेतु देशभर से संकलन का कार्य जारी है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में आदिवासी महिला द्रोपति मुर्मू को राष्ट्रपति बना नारी शक्ति का सम्मान को बुलंद करने का कार्य किया।युवा पीढ़ी को राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा देने हेतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्वतंत्रता सेनानियों और महापुरुषों की याद में राष्ट्रीय स्मारक और राष्ट्रीय उद्यान और उनकी गौरव गाथाओं को शिक्षा के क्षेत्र में शामिल करने की मांग की।          



कार्यक्रम को संबोधित करते हुयें डॉ. विश्वकर्मा ने कहा भूदान आंदोलन के प्रणेता विनोदा भावे का उद्देश्य पूरे देश का उद्धार करना और सभी के हितों की रक्षा करना था। उन्होंने गांधीजी के साथ स्वतंत्रता आंदोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। भारतीय नागरिक और विभिन्न धर्मों के बीच समानता में विश्वास करते थे। उन्होंने भारतीय शिक्षा को उपयोगी बनाने हेतु भारतीय संस्कृति और चरित्रवान शिक्षा पर बल दिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रिंसिपल अनिल शास्त्री नें कहां महापुरुषों और स्वतंत्रता सेनानियों के आदर्शों पर चलकर हीं युवा पीढ़ी को राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। कार्यक्रम में महापुरुषों, स्वतंत्रता सेनानियों और अमर शहीदों की याद में स्कूल के प्रांगण में पर्यावरण व जल संरक्षण के संदेश के साथ  पौधारोपण भी किया गया। इस अवसर पर अनिल शास्त्री प्राचार्य, सरोज, मोनिका, बबीता, सविता, लक्ष्मी, अनीता अलका, सजों ता, विजय सिंह, जगदीप, रमेश, विशंभर अध्यापक वर्ग सहित अनु,चेष्टा,तमन्ना,विधि अर्चिता, महक,दीपिका,ईशा आदि सैकड़ों विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education