Bounsi News: आयुष्मान कार्ड बनाने में हो रही परेशानी, कार्ड बनने के बाद हो रहा रिजेक्ट

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। विगत 3 दिनों से जिले में आयुष्मान कार्ड युद्ध स्तर पर बनाने का कार्य किया जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक अब तक 2500 लोगों का कार्ड बनाया जा चुका है। लेकिन कार्ड बनने के बाद शाम तक में कई लोगों का कार्ड रिजेक्ट हो जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक अब तक 60% से 70% कार्ड रिजेक्ट कर दिया गया है। मालूम हो कि जिला में आयुष्मान कार्ड बनाने की रफ्तार काफी धीमी है। जिसके वजह से विभाग के साथ-साथ जिलाधिकारी के निर्देश पर पूरे जिले के सभी प्रखंडों के गांव में शिविर आयोजित कर आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य किया जा रहा है। प्रखंड क्षेत्र में कार्ड बना रहे कॉमन सर्विस सेंटर संचालकों के द्वारा कड़ी मेहनत के बाद कार्ड बनाया जा रहा है। लेकिन कार्ड रिजेक्ट होने की रफ्तार के बाद  संचालकों में असंतोष पनपता जा रहा है। सोमवार को करीब आधे दर्जन से ज्यादा संचालकों ने इस मामले 

को लेकर बौंसी के एक मंदिर परिसर में बैठक कर अपने वरीय पदाधिकारियों को जानकारी देने का मन बनाया है। वरीय पदाधिकारियों के साथ साथ पटना में बैठे विभाग के कर्मी इस दिशा में ध्यान नहीं देंगे तो आगे आयुष्मान कार्ड योजना जिले में विफल साबित हो जाएगी और प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत गरीब परिवारों में मुफ्त चिकित्सा बीमा का लाभ नहीं मिल पाएगा। बगड़म्मा गांव की कॉमन सर्विस सेंटर संचालक ने बताया कि, उनके द्वारा अब तक 150 कार्ड बनाया गया था। जिसमें 89 कार्ड को रिजेक्ट कर दिया गया है। ऐसे में आयुष्मान कार्ड का निर्माण कर पाना असंभव लग रहा है। उन्होंने बताया कि अगले दिन से वह कार्ड बनाने का काम नहीं करेंगे। यहां तक की और भी कई कॉमन सर्विस सेंटर संचालकों ने भी कार्ड नहीं बनाने का मन बना लिया है। बताया जा रहा है कि, राशन कार्ड और आधार कार्ड में गलती की वजह से लोगों का बना हुआ आयुष्मान कार्ड रिजेक्ट हो जा रहा है। ऐसे में सरकार की यह योजना धरातल पर नहीं आ रही है। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education