Rewari News : आईओसी डिपो करनावास में सड़क सुरक्षा बारे जागरूकता कार्यक्रम रखा

मॉर्निंग ग्लोरी पब्लिक सोसाइटी द्वारा भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन ऑयल डिपो करनावास में सड़क सुरक्षा बारे जागरूकता कार्यक्रम रखा, डिपू में कार्यक्रम तेल टैंकरों के चालको को सड़क सुरक्षा बारे विस्तार से समझाया गया, आज के कार्य्रकम में जिला रेवाड़ी के पुलिस प्रसासन विभाग ( ट्रैफिक विभाग के एस एच ओ ) बहादुरसिंह , व कैलाश चंद एड्वोकेट को आमंत्रित किया गया, ट्रैफिक एस एच ओ ने व कैलाश चंद एड्वोकेट ने सड़क दुर्घटनाओं से बचाव के बारे में जागरूक किया, भारत पेट्रोलियम के मैनेजर दिवाकर जी, ने कार्यक्रम की सुरुवात की जिसके उपरांत कैलाश चंद एड्वोकेट ने भी चालको को अवगत करवाया की. 



भारत में दुनिया के एक फीसदी वाहन हैं पर सड़कों पर वाहन दुर्घटनाओं के चलते विश्वभर में होने वाली मौतों में 11 प्रतिशत मौत भारत में होती हैं. विश्वबैंक की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है. भारत में सालाना करीब साढ़े चार लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिनमें डेढ़ लाख लोगों की मौत होती है.

रिपोर्ट में कहा गया, ''सड़क दुर्घटनाओं में हताहत होने वाले लोगों में सबसे ज्यादा भारत के होते हैं. भारत में दुनिया के सिर्फ एक फीसदी वाहन हैं, लेकिन सड़क दुर्घटनाओं में दुनिया भर में होने वाली मौतों में भारत का हिस्सा 11 प्रतिशत है. देश में हर घंटे 53 सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं और हर चार मिनट में एक मौत होती है.''
रिपोर्ट के अनुसार, पिछले एक दशक में भारतीय सड़कों पर 13 लाख लोगों की मौत हुई है और इनके अलावा 50 लाख लोग घायल हुए हैं. रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में सड़क दुर्घटनाओं के चलते 5.96 लाख करोड़ रुपये यानी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 3.14 प्रतिशत के बराबर नुकसान होता है.



सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा हाल ही में किये गये एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि भारत में सड़क दुर्घटनाओं से 1,47,114 करोड़ रुपये की सामाजिक व आर्थिक क्षति होती है, जो जीडीपी के 0.77 प्रतिशत के बराबर है. मंत्रालय के अनुसार, सड़क दुर्घटनाओं का शिकार लोगों में 76.2 प्रतिशत ऐसे हैं, जिनकी उमग्र 18 से 45 साल के बीच है. यानी ये लोग कामकाजी आयु वर्ग के हैं.

वैश्विक स्तर पर सड़क दुर्घटनाएं लोगों की मौत का आठवां सबसे बड़ा कारण है. विश्वबैंक की रिपोर्ट के अनुसार, कम आय वाले देशों में सड़क दुर्घटनाओं की दर अधिक आय वाले देशों की तुलना में तीन गुना अधिक है. कार्यक्रम के अंत मे मॉर्निंग ग्लोरी संस्था की अध्यक्ष स्लोनी सिंगला ने सभी अतिथियों का धन्यवाद प्रकट किया, आज के कर्यक्रम में सीमा एड्वोकेट व सैकड़ो की संख्या में चालको ने भाग लिया
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education