Chandigarh News : सरकार के साथ आंगनवाड़ी की वार्ता रही बेनतीजा, आन्दोलन रहेगा जारी


ग्राम समाचार : हरियाणा : पिछले 76 दिनों से मजबूरन हड़ताल-आन्दोलन कर रही आंगनवाड़ी प्रतिनिधियों को चण्डीगढ़ में वार्ता के लिए बुलाया था। वहां पहुंचने पर कहा गया कि पहले हड़ताल उठा लो, आन्दोलन वापस ले लो। आपकी दो-एक बात मान लेंगे। नेत्रियों का कहना है कि क्या यही कहने के लिए आज चण्डीगढ़ बुलाया था। 


एआईटीयूसी के राज्य प्रधान कॉमरेड राजेंद्र सिंह ने प्रेस को जारी बयान में कहा कि 14 फरवरी से करनाल में प्रदेशस्तरीय महारैली व महापड़ाव का मोर्चा जमाने पर आंगनवाड़ी यूनियनों को पहले तो 18 फरवरी को बातचीत का न्यौता मिला था। फिर इसे बदल कर आज 21 फरवरी की तारीख दी गई थी। नारनौल, फरीदाबाद आदि स्थानों से चलकर आंगनवाड़ी नेत्रियां चण्डीगढ़ पहुंची थी। 


कॉमरेड राजेंद्र सिंह ने कहा कि पहले तो अधिकारियों ने राजाओं की तरह नखरे दिखाये। कहा कि यूनियन के पुरूष नेताओं को बातचीत में नहीं बिठाया जायेगा। आंगनवाड़ी नेत्रियों ने आपत्ति दर्ज कराते हुये जब वार्ता शुरू की तो एक लाइन का फरमान सुना दिया कि पहले हड़ताल वापस लो, तभी आपकी बात सुनी जायेगी।

कामरेड राजेंद्र सिंह ने कहा कि आगनबाड़ी आंदोलन के साथ भी शायद वैसा ही कुछ हो रहा है जैसा मोदी सरकार ने किसानों के साथ किया था। 11 बार की वार्ता के बाद भी किसानों की जायज बात नहीं मानी थी। खट्टर सरकार भी उसकी नकल कर रही है। किसान आंदोलन से वह कुछ भी नहीं सीखना चाहती। बात है कि अंध-भक्तों की आदत अंधानुकरण करने की होती है। किसान संघर्ष पर जमे रहे तो जिस मोदी सरकार ने किसानों से 11 बार की वार्ता करने पर भी उनकी जायज बात को नहीं सुना था, उसी मोदी सरकार को एक दिन सवेरे सवेरे तीन काले कृषि कानून वापस लेने पड़े थे। लगता है कि खट्टर सरकार भी मोदी सरकार के पदचिन्हों पर चल कर उसके टुच्चेपन का अनुकरण कर रही है। 


इस तरह, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं सहायिकाओं के साथ खट्टर सरकार क्रूरता कर रही है। कह दिया कि पहले हड़ताल वापस लो, फिर आपकी बात सुनेंगे। इससे बड़ी तानाशाही, निरंकुशता व मनमानी गरीब, वंचित, शोषित-उत्पीड़ित आंगनबाड़ी कर्मियों के साथ और कोई नहीं हो सकती।


हरियाणा प्रदेश के तमाम न्याय प्रिय लोगों को खट्टर सरकार की आंगनबाड़ी कर्मियों पर ज्यादतियों का जमकर विरोध करना चाहिए। आंगनबाड़ी आंदोलन का मुखर होकर साथ देना चाहिए। आखिर ये सामान्य घरों की बहू-बेटियां, माताएं हैं। अपने बच्चों को छोड़कर ये पूरे समाज के बच्चों का पालन करती हैं, उनको कुपोषण से बचाने के लिए अपना जीवन लगाती हैं। बच्चा जन्मने से पहले माताओं की देखभाल में मदद करती हैं। दूध पिलाने वाली शिशुवती माताओं को भी पौषाहार देती हैं। पोलियो आदि के टीके लगवाती हैं। सरकार हजार तरह से इनसे अपने काम कराती है। अफसरों और मंत्रियों की सभाओं की शोभा बढ़ाने के लिए इन्हें हांका जाता है। जब उनकी सभाओं की शोभा बढ़ानी हो तो आंगनबाड़ी कर्मियों की सराहना की जाती है। इन्हें आईसीडीएस स्कीम की रीढ़ की हड्डी बता कर बडीरा जाता है। लेकिन मेहनताना देने का वक्त आता है तो उनको सिर्फ अंगुठा/ठोसा ही नहीं, बल्कि जूता दिखाया जाता है। 


पिछले 76 दिनों से भंयकर सर्दी, ठण्ड हर तरह की मुसीबत उठाकर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिकाएं अपने हक की आवाज उठा रही हैं। हड़ताल पर हैं। यह आसान कार्य नहीं है। जब सारे रास्ते अजमा लिये, अन्य कोई उपाय नहीं बचा, तब हड़ताल पर गई हैं।


सरकार की हृदयहीनता, आंगनवाड़ी विभाग के अफसरों की तमाम धमकियों, नौकरी से बाहर निकालने के काले फरमानों का सामना उन्हें हर रोज बड़ी संख्या में करना पड़ रहा है। तब भी सरकार सत्ता के नशे में चूर होकर इनके हक की आवाज को दबाना चाहती है। इस संकट की घड़ी में आंगनबाड़ी वर्करों का साथ देना समाज का दायित्व बनता है। 

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education