Rewari News : 'सुखमणी साहिब पाठ के आयोजन को लेकर बैठक कर पदाधिकारियों को जिम्मेदारियां सौंपी

रेवाड़ी, 25 नवंबर: पंजाबी समाज रेवाड़ी (रजि.) की तरफ से निर्माणाधीन पंजाबी भवन में 28 नवंबर रविवार को प्रात: 9:30 बजे 'सुखमणी साहिब पाठ, भजन कीर्तन व लंगर प्रसाद का आयोजन किया जाएगा। इस संबंध में समाज के सदस्यों में भवन में बृहस्पतिवार को बैठक हुई। जिसमें पंजाबी भवन में चल रही विभिन्न सामाजिक गतिविधियों के बारे में विस्तार से चर्चा हुई। समाज के प्रधान एडवोकेट सचिन मलिक ने कहा कि समाजिक सौहार्द बढ़ाने के लिए पाठ का आयोजन किया गया जा रहा है। जिसमें समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों को आमंत्रित किया जाएगा। इस आयोजन के संदर्भ में पदाधिकारियों को जिम्मेदारियां सौंपी गई। इस बैठक में चरनजीत चावला, पीयूष अरोड़ा, नरेंद्र गुगनानी, देवेंद्र अरोड़ा, लक्की परनामी, प्रिंस ग्रोवर, सतीश शर्मा, संजीव दुवा, श्याम चुग, शकन चांदना, धीरज मदान, संजय गेरा, एमएल तनेजा, दीपक वधावन, भीम गुलाटी, ओमप्रकाश खुराना, बीडी मलिक, कसूरी लाल गुलाटी, भीम मखीजा, सुरेंद्र अरोड़ा, सुनील ठकराल, रवि ठकराल, नरेश कालरा, हरीश मलिक, मोंटी अरोड़ा, दौलतराम चुग, डा. एससी गेरा, विशाल चक्रवर्ती, नरेंद्र मेहंदीरत्ता, वीना धींगड़ा, नरेंद्र बतरा आदि मौजूद थे।



समाज के प्रेस प्रवक्ता डा. नवीन अदलखा ने बताया कि पंजाबी समाज रेवाड़ी द्वारा संचालित वैवाहिक सेवा में पिछले एक वर्ष 1200 बच्चों के नाम शादियों के लिए रजिस्टर्ड हुए हैं और बहुत से बच्चों की शादियां इस माध्यम से हुई है। उन्होंने समाज के सभी लोगों से इस निशुल्क सेवा का लाभ उठाने का आह्वान किया। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि इसी भवन में एक निशुल्क बैंक भी चलाया जा रहा है। जिसमें किसी भी बिरादरी के बच्चे किताबें ले सकते हैं। इस सेवा का 150 से अधिक बच्चों ने लाभ उठाया है।
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education