Chandan News: शराब तस्करों की अजीब तरकीब, फिर भी हत्थे चढ़े चांदन पुलिस के शराब सहित दो तस्कर हुआ गिरफ्तार

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी बता दें कि बिहार में अभी पंचायत चुनावों का दौर चल रहा है। जिसे लेकर वोटरों को लुभाने के लिए शराब की मांग को पूरा करने के शराब की मांग बढ़ी है। कहने को तो बिहार  राज्य में पुर्ण शराबबंदी कानून लागू है फिर भी शराब तस्कर शराब बंदी कानून की ऐसी की तैसी कर रखी है। इन कानूनों को लागू करने की पुलिस प्रशासन तथा उत्पाद विभाग की तमाम कोशिशें लगा रखा है। फिर भी शराब तस्करों के द्वारा ऐसे कारनामे को देख कर न सिर्फ पुलिस प्रशासन और उत्पाद विभाग के अधिकारी बल्कि आम लोग 

भी हैरान कर देने वाली बात सामने आई। इसी बीच 27सितम्बर की सुबह बिहार झारखंड बोर्डर चांदन देवघर मुख्य मार्ग स्थित मध निषेध चेक पोस्ट करूवा पत्थर के समीप गुप्त सूचना के आधार पर चांदन थानाध्यक्ष रविशंकर कुमार के नेतृत्व में ए एस आई उपेन्द्र यादव सिपाही आलोक यादव नितीश कुमार, प्रेम दत्त व ए एल टी एफ संयुक्त टीम ने देवघर झारखंड की ओर से आ एक जूगाड गाड़ी पर लोडेड तीन पुरानी ट्रेक्टर टायर में छिपा कर 300ml की 500 बोतल मसालेदार शराब, रॉयल स्टैग ब्रांड की 750ml की 10 बोतल इंपीरियल ब्लू 375ml की 48 बोतल 

रॉयल चैलेंज 750 एम एल की 12 बोतल इंपीरियल ब्लू 750ml की 23 बोतल बरामद करने में कामयाबी हासिल किया। इस तरह की शराब तस्करों की शातिराना अंदाज को देख चांदन पुलिस के साथ-साथ आम लोग भी आश्चर्य चकित हो गए। जिसमें शराब की खेप ले जा रहे दो तस्करों में एक मुंगेर जिला के दुसरा लखिसराय जिले निवासी सख्श को धर दबोचा। जो यह बड़ी शराब के खेप मुंगेर ले जा रहे थे। इस संबंध में चांदन थाना अध्यक्ष रवि शंकर कुमार ने बताया कि आगे की कार्रवाई करते हुए दोनों शराब तस्करों के विरुद्ध मध अधिनियम के तहत सुसंगत धाराओं में मामला दर्ज कर कोरोना जांच कर बांका जेल भेज दिया गया।

उमाकान्त साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education