Bhagalpur News:व्यावसायिक बकरी पालन प्रशिक्षण शिविर में बकरी पालन की दी गई तकनीकी जानकारी

किसानों के स्वरोजगार के क्षेत्र में निरंतर आय का श्रोत प्रदान करता है बकरी पालन – प्रभात कुमार



ग्राम समाचार, भागलपुर। कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंध अभिकरण आत्मा भागलपुर के द्वारा आयोजित 05 दिवसीय व्यावसायिक बकरी पालन प्रशिक्षण शिविर के चौथे दिन मुख्य प्रशिक्षक सह निदेशक उत्थान पटना संतोष कुमार के द्वारा बकरी पालन में स्वस्थ बकरी का चयन, हरे चारे के प्रकार एवं खेती, सांद्रित चारा तैयार करना (दाना), चारा बनाने और सूखे चारे के भण्डारण की प्रक्रिया, किसान स्वयं बकरी का रोजाना स्वास्थ की जाँच कैसे करें आदि विषयों पर विस्तारपूर्वक जानकारी दिया गया। उन्होंने विभिन्न प्रकार के बकरी को लगने वाले टीकाकरण और टीके की उपलब्धता का महत्व, बिक्री एवं विपणन प्रावधान आदि के संबंध में जानकारी प्रदान किया गया। प्रशिक्षण के दौरान पशुपालन विभाग से बकरी पालन की किसान हितकारी योजनाओं के बारे में डॉ० राजेश कुमार, जिला पशुपालन पदाधिकारी, भागलपुर एवं डॉ० अनिल कुमार, सहायक कुक्कुट पदाधिकारी, भागलपुर के द्वारा बकरी फार्म के आवेदन के लिए वांछित भूमि (आधारभूत संरचना निर्माण एवं हरा चारा उगाने के लिए भूमि) एवं राशि (स्वलागत अथवा बैंक ऋण के लिए) 20 बकरी + 1 बकरा, 40 बकरी + 2 बकरा, आवेदक के पास वांछित राशि रूपये में 60,000, 1,20,000 कोटि वार/क्षमतावार स्वलागत अथवा बैंक ऋण के लिए क्रमशः वर्णित वांछित राशि की उपलब्धता संबंधित प्रमाण (अद्यतन बैंक पासबुक/बैंक शाखा प्रबंधक के द्वारा सत्यापित खाता विवरणी) का साक्ष्य देना अनिवार्य होगा। लाभुक द्वारा आवेदन के साथ विस्तृत परियोजना प्रस्ताव संलग्न करना होगा। चयन की योग्यता पुरा करने वाले आवेदकों के बीच लाभुक चयन करने के क्रम में स्वलागत एवं बकरी पालन में कम से कम पाँच दिन का प्रशिक्षण प्राप्त आवेदकों को प्राथमिकता दी जाएगी। आवेदक को बकरी पालन प्रशिक्षण पत्र केवल आत्मा, कृषि विज्ञान केन्द्र, एनिमल साइन्स यूनिवर्सिटी, सरकारी संस्थान अथवा सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अन्य संस्थाओं से प्राप्त प्रमाण पत्र ही मान्य होगा। उपर्युक्त प्राथमिकता के आलोक में वरीयता सूची "पहले आओ पहले पाओ के आधार पर तैयार की जाती है। चयनित लाभुकों को देय अनुदान की विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान किया गया। प्रभात कुमार सिंह उप परियोजना निदेशक आत्मा द्वारा बताया गया कि भागलपुर किसानों के स्वरोजगार के क्षेत्र में बकारीपालन बहुत ही फायदेमंद एवं निरंतर आय का श्रोत प्रदान करती है। इसे करने से किसान अपना सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति दोनों का उत्थान कर सकते हैं। कार्यक्रम में प्रखंड तकनीकी प्रबंधक आशीष कुमार एवं परमेश्वर कुमार सिंह सहायक तकनीकी प्रबंधक क्यूरी कमारी, अन्नु भारती एवं अन्य आत्मा कर्मी उपस्थित थे।



Share on Google Plus

Editor - Bijay shankar

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education