बौंसी न्यूज़:- ऐतिहासिक मंदार पर्वत घुमने आने वाले पर्यटकों के लिए खुशखबरी, अगले सप्ताह से रोप-वे की हो रही है शुरुआत

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। 

ऐतिहासिक मंदार पर्वत घुमने आने वाले पर्यटकों के लिए खुशखबरी है। अब पर्यटक ऊंचाई से मंदार की वादियों का आनंद ले सकेंगे। यहां पर अगले सप्ताह से रोप-वे की शुरुआत हो रही है। इसका फाइनल ट्रायल सफल रहा। उम्मीद की जा रही है कि अगले सप्ताह तक इसे अंतिम टच दे दिया जाएगा। जानकारी देते हुए डीएम सुहर्ष भगत ने बताया कि, राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसका उद्घाटन करेंगे। इसके लिए प्रशासन की ओर से सभी तैयारियां पूरी की जा रही है। इसका ट्रायल भी सफल रहा है। शेष कुछ काम शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा रोप-वे के शुरू होने से पर्यटकों की संख्या में बढ़ोतरी 

होगी। इससे रोजगार के अवसर खुलेंगे पर्यटन दुनिया के सबसे बड़े उद्योग के रूप में जाना जाता है और सामुदायिक विकास को प्राप्त करने के साधन के रूप में माना जाता है। चार सीटर रोप-वे में आठ केबिन हैं। इससे मंदार पहाड़ की उचाई 786 मीटर जाने में सात से आठ मिनट लगेगा, जबकि सीढ़ियों से दूरी 1150 मीटर है। 90 बिजली पोल के सहारे सफल ट्रायल के बाद रोप-वे केबिन को बनाने वाली राइट्स कंपनी सहित प्रशासन के अधिकारियों के चेहरे खुशी से जगमगा उठे राजगीर के बाद यह दूसरा रोप-वे होगा। बताते चलें कि,मंदार पर रोप-वे का शिलान्यास तत्कालीन मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने किया था। लगभग आठ करोड़ की लागत से बन रहे रोप-वे के साथ ही मंदार के परिक्रमा पथ का भी सैलानी मजा लेंगे। लगभग छह किलोमीटर पथ की लंबाई नापने के लिए आठ ई-रिक्शा की खरीद की गई है। मालूम हो कि, विश्व प्रसिद्ध मंदार पर्वत का सनातन पौराणिक महत्व है। माना जाता है कि देवताओं और असुरों द्वारा संयुक्त रूप से किए गए सागर मंथन में जिस मथानी का 


इस्तेमाल किया गया था, वह यही मंदार पर्वत है। मंदार पर्वत पर आज भी सैकड़ों पौराणिक पहचान और धरोहर मौजूद हैं जो इसके वाकई पौराणिक महत्व की पुष्टि करते हैं।मंदार पर्वत सनातनी हिंदुओं एवं जैन समाज के साथ-साथ मूल आदिवासी समुदाय के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण और सांस्कृतिक आध्यात्मिक धरोहर है। यहां सालों भर सैलानी आते-जाते रहते हैं। यहां सैलानी देश भर से आते हैं। मंदार पर्वत शिखर पर अनेक धार्मिक एवं आध्यात्मिक स्थल हैं जिनका सनातन हिंदू एवं जैन मतावलंबियों से गहरा सरोकार है। उन तक पहुंचने के लिए सैलानियों को सैकड़ों मीटर ऊंचाई पर पहाड़ पर चढ़ना होता है। इससे सैलानियों को निजात दिलाने के लिए राज्य सरकार के पर्यटन विभाग की ओर से वर्ष 2017 में मंदार पर रोप-वे का शिलान्यास किया गया था। वहीं दूसरी ओर, भव्य रूप से बना आर्ट एंड क्राफ्ट विलेज पर पांच करोड़ की लागत से आर्ट एंड क्राफ्ट विलेज का 90 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है। इसमें डबल फ्लोर का भव्य रेस्टोरेंट्स कलाकारों के कार्य करने के लिए 57 वर्कशाप बना है। इसके अलावा मंदार की पर्वत तराई से शिखर तक 190 सोलर लाइट, आठ मिनी मास्टर लाइट लगाए गए हैं। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education