चांदन न्यूज: दो फर्जी बंदूक लाइसेंस धारी आइ एस आइ ए टी एम गार्ड को किया गिरफ्तार, सत्यापन के बाद भेजा जेल

ग्राम समाचार,चांदन,बाँका। स्टेट बैंक के ए टी एम में पैसा डालने आये एस आई एस वाहन के बंदूकधारी गार्ड को गुरुवार थानाध्यक्ष रविशंकर कुमार द्वारा पूछताछ के थाना लाया गया था। लेकिन पूछताछ में जो तथ्य सामने आया है वह काफी चोकाने वाला है। गिरफ्तार युवक महेंद्र महतो देवघर के रिखिया निवासी करीब चार बर्ष से उसी वाहन पर गार्ड का काम करता था।उसके पास से जो बंदूक बरामद किया गया वह गोपालगंज के जिलाधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर से जारी किया गया था।जिसका बर्ष 2022 तक का सत्यापन हो चुका था।थानाध्यक्ष ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि जो वाहन चांदन ए टी एम में पैसा डालने आता है। उसका लाइसेंस जाली है इसी सूचना पर उसे पकड़ कर पूछताछ के लिए लाया गया। पूछताछ के क्रम में गिरफ्तार महेंद्र महतो ने बताया कि देवघर 

एल आई सी आफिस में काम करने वाले कृष्णा मंडल सारवां थाना के सुरा गांव निवासी द्वारा दिया गया था।इसे लेकर चांदन थानाध्यक्ष रवि शंकर कुमार द्वारा देवघर एल आई सी आफिस जाकर पता किया गया तो, वह व्यक्ति भी फर्जी बंदूक के साथ बिना गोली का आठ साल से वहां गार्ड की नोकरी कर रहा था। दोनों के पास से बरामद बंदूक गोपालगंज डीएम के फर्जी हस्ताक्षर से 2022 तक सत्यापित किया गया था।जिसे गोपालगंज जिला से ही फर्जी बताया गया। थाना अध्यक्ष रवि शंकर कुमार ने बताया कि देवघर एलआई सी ऑफिस से गिरफ्तार कृष्णा को बंदूक के साथ देवघर पुलिस के हवाले कर दिया गया जबकि स्टेट बैंक चांदन के पास गिरफ्तार महेंद्र महतो को बंदूक के साथ बांका जेल शनिवार सुबह को भेज देने की बात कही। यह सभी काम एक कम्पनी एस आई एस के माध्यम से किया जाता है। जिसकी भी मिलीभगत साफ प्रतीत होता है। 

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education