expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Rewari News : सर्व दिव्यांगजन उत्थान समिति की मासिक बैठक का आयोजन, दिव्यांगों की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म : होशियार

 


कोसली : दिव्यांग हमारे समाज का अभिन्न अंग है तथा इनकी सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है | उक्त कथन एम डी एस कॉलेज कोसली के चेयरमैन होशियार सिंह नम्बरदार ने व्यक्त किए | वे रविवार को कोसली में सर्व दिव्यांगजन उत्थान समिति की मासिक बैठक में मुख्यातिथि के तौर पर बोल रहे थे | उन्होंने कहा कि समाज में दिव्यांगजनों की मदद करना हम सब का परम कर्तव्य बनता है | इसलिए इनका सहारा बन कर समाज में अपनी भागीदारी निभानी चाहिए | इस मासिक बैठक में दिव्यांग शिक्षक भूदत शर्मा ने दिव्यांगों के कल्याण और सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी। शर्मा ने बताया कि पहले तो हमें शिक्षित होकर अपने हितों की जानकारी होनी चाहिए ताकि हम सरकार द्वारा सरकारी नौकरियों में दिए जाने वाले 4% आरक्षण का लाभ उठा सकें | जिला रैडक्रास समिति में आंखों से दिव्यांग व्यक्तियों के लिए कुर्सी बुनकर का काम उपलब्ध करवाया जाता है। नैशनल हैंडीकैप्ट फाइनेंस एंड डेवलपमेंट  नई दिल्ली, दीनदयाल दिव्यांग पुनर्वास योजना जिला समाज कल्याण विभाग व जिला कल्याण विभाग द्वारा अपना व्यवसाय या अन्य काम धंधा करने के लिए बहुत ही सस्ते दर पर लोन दिया जाता है। भूदत शर्मा  ने कहा कि असमर्थ दिव्यांगजन सरकारी योजनाओं का लाभ उठाए  तथा  अपना स्वरोजगार या व्यवसाय स्थापित करके अपने जीवन को समर्द्ध बनाए ,  जिससे आप किसी पर आर्थिक रूप से बोझ न  बन सकें | इस अवसर पर प्रधान जसवंत सिंह , बुधराम , समाजसेवी दयावान, होशियार नम्बरदार, महासचिव कुलदीप, अर्जुन देव , सुबेदार ईश्वर सिंह कृष्ण, नरसी, भूपेंद्र, रोहतास, नरेश आदि अनेक दिव्यांगजन उपस्थित थे |
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें