expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Rewari News : पौधे लगाने के साथ- साथ उन्हें पाल-पोश कर बडा करने का संकल्प ले : डा. बनवारी लाल



रेवाड़ी, 17 जुलाई। पर्यावरण को शुद्ध बनाने व अपने आस- पास के वातावरण को हरा-भरा बनाये रखने के लिए हमें पौधारोपण अवश्य करना चाहिए ताकि शुद्ध आक्सीजन भरपूर मात्रा में मिलती रहें। सहकारिता मन्त्री डा बनवारी लाल ने आज बावल रैस्ट हाउस परिसर में पौधा रोपण करते हुए कहा कि पर्यावरण  संतुलन बनाए रखने के लिये पेड़ पौधों का होना बहुत जरूरी है। इसलिए हम सभी को कम से कम एक पौधा जरूर लगाना चाहिये और उसको पाल-पोश कर बडा करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हम सभी को अधिक से अधिक पौधारोपण करना चाहिए। ऐसा करके जहां हम धरती को हराभरा बना सकते हैं, वहीं प्रदूषण मुक्त वातावरण बना सकते हैं। अधिक से अधिक पौधा रोपण से जीवन दायनी ऑक्सीजन की प्राप्ति होती हैं। उन्होंने कहा कि सभी को अपने घरों में होने वाले जन्मदिन, विवाह, सालगिरह आदि समारोह के उपलक्ष में पौधा रोपण करना चाहिए और लगाए गए पौधों की देखभाल करनी चाहिए। पौधा रोपण के लिए सभी इसमें अपना सहयोग दें और इसे जन आंदोलन का रूप देकर विशेष मुहिम के तहत जिले को हराभरा करने का संकल्प लें। 
मन्त्री ने कहा कि यदि हम अधिक से अधिक पेड़ लगाऐगें तो इससे हमारा पर्यावरण दूषित होने से बच सकता है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण दूषित होने के कारण हमें अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाने चाहिए और इन पेड़ पौधों की देखभाल भी अवश्य करें। 
डा. बनवारी लाल ने कहा कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने हम सभी को यह दिखा दिया कि आक्सीजन की हमें कितनी अधिक जरूरत होती हैं। उन्होंने कहा कि पेड-पौधें कार्बनडाइऑक्साइड को ग्रहण करतें हैं और  मनुष्य के लिए आक्सीजन देते हैं, इसलिए हमें आक्सीजन की महता को समझते हुए ज्यादा से पौधे लगाने चाहिए और उन्हे पाल-पोश कर बडा करने चाहिए ताकि हमारी भावी पीढी को आक्सीजन की कमी महसूस ना होने पायें। 
   सहकारिता मन्त्री ने कहा कि शहरों में खुली जगह कम होने के कारण हमें पौधारोपण करने के लिए कम जगह में ज्यादा पौधे लगाने के लिए मियावाकी पौधारोपण तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है। इस तकनीक के अंतर्गत एक छोटी जगह पर ही ज्यादा गहरे पौधे लगाकर उसे एक प्रकृतिक जंगल का स्वरूप दिया जाता है। उन्होने कहा कि मियावाकी पौधारोपण मॉडल आज शहरी क्षेत्रों के लिए एक रामबाण कार्बन उत्सर्जन का पेड़ों के मार्फत कम करने का उत्तम तरीका है। इस तकनीक से बहुत छोटी जगह पर गहरे पौधे लगाकर हवा में उड़ रहे कार्बन को कम किया जा सकता है। 
सहकारिता मन्त्री डा बनवारी लाल ने कहा कि आज के पौधरोपण अभियान में छायादार पेड़ों के साथ-साथ फलदार  व औषधीय पौधों को भी लगाया गया हैं ।  
   डा. बनवारी लाल ने इस मौके पर पुराने रैस्ट हाउस परिसर में भी खाली जमीन पर इसी तकनीक से लगाये जाने वाले परिसर में चल रहें कार्य का निरीक्षण कर वन विभाग के अधिकारियों को इस कार्य को शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए। 

इस मौके पर एसडीएम बावल संजीव कुमार, तहसीलदार मनमोहन सिंह डीएफओ सुंदरलाल, सचिव नगरपालिका समयपाल सिंह, मंडल अध्यक्ष अमरजीत सिंह, पूर्व चेयरमैन अमर सिंह महलावत, भाजपा जिला महामंत्री ईश्वर चनेजा, युवा मंडल अध्यक्ष महेश कुमार, कृष्ण चिराहाड़ा व उदय महलावत आदि सहित अन्य गणमान्य लोग  मौजूद रहे।
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें