Rewari News : किसान भवन में किसान संगठनों की ओर से महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन

भारतीय किसान यूनियन(चढूनी) के जिला प्रधान समय सिंह के आह्वान पर रेवाड़ी के किसान भवन में जिले के विभिन्न किसान-मजदूर संगठनों की एक महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन किया गया । इस बैठक में भारतीय किसान यूनियन (चढूनी)के प्रधान समय सिंह के साथ किसान विकास संगठन के जिला अध्यक्ष कुलदीप सिंह स्वराज माजरा, सँयुक्त कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष हरिसिंह मूलोदिया नैनसुखपुरा,सँयुक्त किसान संगठन के कुलदीप शर्मा भोतवास,आदि किसान नेताओ की जिले में किसान आंदोलन को और अधिक मजबूती एवं गति देने के लिए सँयुक्त किसान बैठक का आयोजन किया गया । 



सँयुक्त कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष हरिसिंह मूलोदिया ने बैठक में अपने विचार रखते हुए कहा कि गत 7 माह से भी अधिक समय से चल रहा किसान आंदोलन अपने स्वर्णिम चरण में प्रवेश कर किसानों के साथ ही कर्मचारियों का भी समर्थन पाकर देश की आजादी के बाद एक ऐतिहासिक किसान आंदोलन की संज्ञा पा चुका है, अब इस आंदोलन में किसानों के साथ बुद्धिजीवियों ने भी अपना अमूल्य योगदान देकर इसे और अधिक मजबूती और गति प्रदान कर दी है तथा तीनो काले कृषि कानूनो की वापसी का ही एकमात्र विकल्प बताया है ।                 


  

किसान विकास संगठन जिला रेवाड़ी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह स्वराज माजरा जो स्वयं भी एक विकासशील किसान है ने अपने भाषण में कहा कि भारतीय इतिहास में गुरुगोविंद सिंह, शिवाजी महाराज, महाराणा प्रताप जैसे योद्धा एम जीजा बाई जैसी प्रतापी माँ हमारी वंशज धरोहर है, जिनके नक्शे कदम पर आज का जांबाज किसान और महिला किसान -मजदूर अपनी ऐतिहासिक किसान आंदोलन की छाप छोड़ते हुए अन्नदाता को आजाद देश के इतिहास में सबसे बड़े शांतिपूर्ण आंदोलन की श्रेणी में ला खड़ा कर दिया ।इस निरंकुश हठधर्मी सरकार को देश के अन्नदाताओं के सामने घुटने टेक कर तीनों काले कृषि कानूनो को रद्द करना ही पड़ेगा ।

सँयुक्त किसान संगठन के कुलदीप शर्मा भोतवास ने कहा कि उनका संगठन किसान आंदोलन के पहले दिन से ही किसानों के साथ जुड़कर भारतीय किसान यूनियन के जिला रेवाड़ी के हर आंदोलन प्रोग्राम में अपनी सहभागिता दर्शाता रहा है। चूंकि अब यह किसान आंदोलन केवल किसानों तक ही सीमित नही रहकर मजदूरों, कर्मचारियों, व्यापारियों, बेरोजगारों, देश के बुद्धिजीवियों, मध्यम वर्ग का एक बड़ा आंदोलन बन गया है, जो देश के अन्नदाताओं पर थोपे गए तीनो काले कृषि कानूनो को रद्द करवाने तथा एम एस पी को कानूनी जामा पहनाने की मांगों के समर्थन आ गया है। भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के जिला प्रधान समय सिंह ने अपने विचार उद्धबोधन में कहा कि इस ऐतिहासिक किसान आंदोलन के संघर्ष से केंद्र सरकार  पल्ला नही झाड़ सकती,सरकार को बिना देरी किये तीनो काले कानून रद्द करने ही पड़ेंगे, एमएसपी की गारंटी देने का कानून बनाना ही पड़ेगा,बिजली संशोधन  अधिनियम-2020 वापिस लेना ही पड़ेगा, साथ ही किसान आंदोलन में शहादत देने वाले हर किसान परिवार को 50 लाख मुआवजा देने,एवम परिवार  के एक सदस्य को स्थायी रोजगार देने की मांग को पूरा करना ही पड़ेगा ।

महिला जिला प्रधान लक्ष्मी बाई लिसाना ने संबोधित करते हुए कहा कि किसान-मजदूर के परिवार की प्रत्येक महिला सदस्य भी आगे आकर इस किसान आंदोलन को अपना पूर्ण समर्थन दे रही है तथा पुरुष किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आंदोलन का एक मुख्य चेहरा बनी हुई है,जो कि इन तीनो काले कृषि कानूनो के रद्द होने तक मैदान में डटी रहेगी। अंत मे भारतीय किसान यूनियन के वरिष्ठ जिला महासचिव कुलदीप सिंह भुड़पुर ने सभी महिला-पुरुष किसानों का आज की मत्त्वपूर्ण किसान बैठक में भाग लेने पर दिल से धन्यवाद किया ।                                    

इस बैठक में भारतीय किसान यूनियन(चढूनी)के बावल ब्लाक प्रधान जगदीश गुजर बावल, कोसली ब्लाक प्रधान सवाचन्द नम्बरदार रोझुवास, रेवाड़ी ब्लाक प्रधान चुन्नी लाल यादव, गूगन सिंह उर्फ राजकुमार, बालावास जमापुर से गजेंद्र सिंह, रत्तीराम, हिम्मतसिंह, चंद्रप्रकाश भोतवास, राजेश कुमार किशनगढ़, ग्राम बूढ़पुर से मुन्नीदेवी, कैलाश देवी, सोनू एवम चंद्रकला आदि किसान भी उपस्थित रहे ।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education