Bounsi News: मानसून की वजह से लगातार हो रही बारिश से चांदन डैम के जलस्तर में हो रही बढ़ोतरी

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। 

मानसून कि वजह से लगातार हो रहे बारिश से चंदन डैम का जलस्तर में बढ़ोतरी हो रही है। चांदन डैम में 483 क्यूसेक फीट पानी जमा हो गया है। आशंका जताई जा रही है कि तीन-चार दिन अगर लगातार बारिश हुई दो डैम का पानी स्पिलवे में गिर कर नदी में जाने लगेगा। अनुमानित तौर पर विगत 1 सप्ताह में डैम का जलस्तर करीब 15 फीट क्यूसेक बढ़ा है। डैम में जल्दी पानी भर जाने का मुख्य कारण उसमें गाद का जमा होना है। जानकारी हो कि एक तिहाई हिस्सा में गाद जम जाने के कारण डैम जल्दी ही पानी से भर जाता है। बताते चलें कि, मुख्यमंत्री के द्वारा डैम की गाद सफाई की बात फाइलों में ही दब कर रह गई है। अगर इसकी सफाई हो गई होती तो इतनी जल्दी डैम नहीं भरता। जानकारी हो कि डैम का जलस्तर 500 क्यूसेक फिट है। इसके बाद हवा के झोंकों के साथ ही पानी स्पिल करना आरंभ हो जाएगा। जानकारों की 

मानें तो दूसरी बार चांदन डैम जून में ही स्पील करने लगा है। हालांकि स्पील करने के लिए अभी 18 क्यूसेक फिट पानी और चाहिए। डैम का पानी स्पील करने से अब पूरे बरसात चांदन नदी को पानी से निजात नहीं मिलना है। बांका जाने में चांदन नदी का टूटा पुल अब और अधिक कष्ट देगा। बरसात नहीं होने पर भी डैम का पानी स्पील कर नदी में आकर लोगों की परेशानी बढ़ाएगा। जानकारी हो कि चांदन डैम के पानी से बांका और भागलपुर जिले के निचले भाग में 1995 और 1997 में भीषण बाढ़ आ चुका है। 1995 की बाढ़ में तो बांका शहर के कई मोहल्ले, घरों और कार्यालय में पानी प्रवेश कर गया था। जिसमें जान माल के साथ सरकारी संपत्ति का भी भारी नुकसान हुआ था। जानकारी हो कि डैम का जल स्पीलवे के जरिए नदी में आने के बाद प्रखंड क्षेत्र के कई गांव बाराहाट, धोरैया एवं पंजवारा के भी कई निचले इलाके के गांव में पानी पहुंच सकता है। 1995 की बाढ़ में बताया जाता है कि डैम की स्पिलवे से 10 से 12 फीट पानी नदी में जा रहा था। उस वक्त चांदन नदी पर निर्माण किए गए लोहे के पुल को बाढ़ के पानी ने तोड़ दिया था। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education