expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : दिल्ली-जयपुर हाईवे न 48 के सर्विस रोड पर सड़क हादसा, ट्रक से कुचलकर स्कूल टीचर की मौत हुई

एनएच-48 पर साबन चौक के पास गुरुवार को एक सड़क हादसा हुआ जिसमे एक स्कूल टीचर की ट्रक से कुचल कर दर्दनाक मौत हो गई। वीके भारत गैस एजेंसी के पास एक ट्रक ने एक बाइक को इतनी जोर से टक्कर मारी कि बाइक सवार युवक की मौके पर ही मौत हो गई। मृतक रेवाड़ी के ढ़ालियावास गांव का रहने वाला कृष्ण कुमार था जो बावल के प्राणपुरा गांव में बतौर गेस्ट टीचर लगा हुआ था आज दोपह को बाइक पर सवार होकर स्कूल से आते समय यह हादसा हुआ। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और जाँच शुरू कर दी। फ़िलहाल ट्रक चालक मौके से फरार हो गया पुलिस ने ट्रक को कब्ज़े में ले लिया है।   


रेवाड़ी जिले के बावल में एक बार फिर तेज रफ़्तार का कहर देखने को मिला है। गुरुवार को नेशनल हाईवे 48 सर्विस लाइन दिल्ली जयपुर साबुन चौक के पास रोड पर भारत गैस एजेंसी के एक ट्रक ने एक बाइक को टक्कर मार दी। इस हादसे को अंजाम देने वाले ट्रक का नम्बर आरजे 32-GC 0702 ने बाइक को इतनी जबरदस्त टक्कर मारी कि बाइक सवार युवक की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने के बाद मौके पर बावल पुलिस पहुंची। ईएसआई किशोर कुमार थाना बावल ने मौके पर लोगों के जरूरी पूछताछ की। हादसे के बाद चालक और ट्रक को पुलिस ने पकड़ लिया। ट्रक ड्राइवर मौके से फरार हो गया। मृतक रेवाड़ी जिले के डालियाकी गांव के रहने वाले था। उसका नाम कृष्ण यादव गेस्ट टीचर था। पिता का नाम दिलीप यादव कुमार बताया जा रहा है और गुरुवार किसी काम के सिलसिले में अपनी बाइक से बावल क्षेत्र के डालियाकी गांव की तरफ आ रहे थे। बाइक नंबर एचआर 36 के 9911 है वहीं मौके पर पुलिस पहुंची डेड बॉडी को लेकर स्वास्थ्य विभाग हॉस्पिटल पहुंचे। पहुंचने पर पुलिस को स्वास्थ्य विभाग के फोर्थ क्लास के स्टॉप ने डेड बॉडी उतारने से किया मना किया। युवकों की मौत से पूरे गांव में मातम का माहौल है। 
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें