expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Pakur News: दर्जनों गांव के लोगों को प्रखंड मुख्यालय से जोड़ने वाले मज ड़िहा पाकुड़िया सड़क हुआ जर्जर


ग्राम समाचार, पाकुड़। पाकुड़िया प्रखंड के सुदूर ग्रामीण क्षेत्र को लोगों को सीधा प्रखंड मुख्यालय से जोड़ने वाली मज ड़िहा पाकुड़िया सड़क इन दिनों काफी जर्जर हो चुका है। ज्ञात हो कि आर ई ओ के तहत आने वाले इस सड़क की लंबाई लगभग ढाई किलोमीटर की है जो पूरी तरह से खराब हुआ जर्जर अवस्था में है। पूरे सड़क में मेटल आधे उखड़ कर बिखर चुके हैं जिस कारण आवागमन में काफी कठिनाई हो रही है। कई स्थानों में सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे बन चुके हैं। ज्ञात हो कि करीब 10 वर्ष पूर्व इस सड़क में ग्रेटू कार्य का निर्माण किया गया था। इस संबंध में ग्रामीण संटू मंडल, बाम साहू, उत्तम कर्मकार, रॉबिन साहू, पूरन राय, झंडू दास, आसित भंडारी, निमाई दास, आदि अन्य ने बताया कि इस सड़क का उपयोग रोजाना शहर पुर, जोका, तेतुलिया, मजडिहा, लालागडुम, बरमसिया आदि अन्य गांव के लोग करते हैं लेकिन वर्तमान में सड़क की स्थिति बेहद खराब होने के कारण उन्हें हमेशा मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। खासकर रात के समय इस सड़क से गुजर ना जान जोखिम में डालने के समान है बावजूद नजदीकी रास्ता होने के कारण लोग मजबूरी में इसी सड़क का उपयोग करते हैं। ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों से इस महत्वपूर्ण सड़क के जीणोउद्धार सह सुदृढ़ीकरण की मांग की है ताकि लोगों को आवागमन की बेहतर सुविधा मिल सके। इस संबंध में स्थानीय विधायक प्रो स्टीफन मरांडी ने बताया कि यह महत्वपूर्ण सड़क मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता सूची में है। जल्द ही इसके सुदृढ़ीकरण एवं नवीनीकरण हेतु आवश्यक कदम उठाया जाएगा ताकि आम जनों को आवागमन की बेहतर सुविधा मिल सके। बरहाल लोग वर्तमान में सड़क की जर्जर ता से रोजाना आवागमन की परेशानियों का सामना करने को लाचार हैं।

ग्राम समाचार, पाकुड़िया विशाल कुमार भगत की रिपोर्ट।


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें