expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : रिमोट सैंन्सिंग एण्ड भौगोलिक सूचना प्रणाली पर एक्शटेंशन लेक्चर श्रृंखला दूसरे दिन भी जारी रहा

इन्दिरा गाँधी विश्वविद्यालय, मीरपुर, रेवाड़ी के भूगोल विभाग द्वारा दिनांक 25 दिसम्बर, 2020 को रिमोट सैंन्सिंग एण्ड भौगोलिक सूचना प्रणाली पर  एक्शटेंशन लेक्चर श्रृंखला का दूसरे दिन भी जारी रहा। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ विभाग के प्रभारी डाॅ. देवेन्द्र सिंह ने किया। आज दिनांक 25 दिसम्बर, 2020 को प्रातः 10 बजे से 11ः30 बजे और दोपहर 12 बजे से 01ः30 बजे तक फण्डामेंटल आॅफ रिमोट संेन्सिंग एण्ड भौगोलिक सूचना प्रणाली पर तथा रिर्साेस मेंपिंग एण्ड मैनेजमैंट विषय जिसके मुख्य वक्ता कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरूक्षेत्र के भूभौतिकी विभाग के प्रोफेसर बी.एस. चैधरी जी ने अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने अपने इस व्याख्यान में दूरस्थ संवेदन और भौगोलिक सूचना प्रणाली पर आधारभूत जानकारी और हिस्टोरिकल एडवंेटिज आॅफ रिर्सोसिज एण्ड डेवलैपमैंट रिर्सोस मेंपिंग, रिर्सोस मैनेजमैंट एण्ड रिजूलेशन, हाइड्रोलोजी, रिवर बेसिन तथा अन्य संसाधनों मेें दूरस्थ संवेदन विषय के उपयोग से सम्बन्धित महत्वपूर्ण तथ्यों की गहनता से  छात्रों को अवगत कराया। आज के इस व्याख्यान में उपस्थित व्याख्यान वक्ता का डाॅ. जितेन्द्र सिंह तथा डाॅ. सुनीता नागपाल द्वारा धन्यवाद  किया गया। इस व्याख्यान का बहुतायत संख्या में छात्रों ने लाभ उठाया। इस श्रृंखला का भाग-2 नववर्ष (जनवरी) माह के प्रथम सप्ताह में प्रारम्भ होगा जिसके विवरण विश्वविद्यालय की वैबसाइट पर उपलब्ध है। इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के भौतिकी विभाग से डाॅ. सुनील कुमार, पर्यावरण विभाग से डाॅ. अशोक बंसल, योग विभाग से डाॅ. सुरजीत डबास, बोटनी विभाग से डाॅ. नरेन्द्र कुमार तथा अन्य विभागों से अध्यापकगण उपस्थित थे। इस कार्यक्रम के समय भूगोल विभाग के सभी स्टाफ सदस्य उपस्थित थे।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें