expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : कृषि बिलो को निरस्त करने की मांग को लेकर राजस्थान से दिल्ली जा रहे किसानो को रेवाड़ी पुलिस ने खेड़ा बॉर्डर पर रोका

कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर किसानो का आंदोलन दिन प्रतिदिन और उग्र होता जा रहा। दिल्ली-जयपुर हाइवे को जाम करने की चेतावनी के साथ रविवार को राजस्थान के शाजहांपुर में बड़ी संख्या में किसान इकठ्ठा हुए और दोपहर को खेड़ा बॉर्डर पर पंचायत की और दिल्ली कूच करने की रणनीति बनाते हुए आगे बढ़ने लगे लेकिन बॉर्डर पर तैनात रेवाड़ी पुलिस, सीआईएसएफ और आरएफ ने उन्हें आगे जाने से रोक लिया। जिसके बाद किसानो ने बॉर्डर पर पड़ाव डाल दिया और देर शाम तक प्रशासन और किसान नेताओ में आगे जाने और हाइवे खाली करने पर बातचीत चलती रही लेकिन न तो किसान हाइवे से हटे और न पुलिस ने उन्हें दिल्ली जाने दिया। जिस कारण दोपहर बाद से हरियाणा का खेड़ा बॉर्डर भी किसानो द्वारा जाम कर दिया गया। एनएच 48 पर हरियाणा और राजस्थान की सीमा पर जय सिंह पुर खेड़ा बॉर्डर स्थित है जहाँ राजस्थान से दिल्ली के लिए कूच कर रहे किसानो को रेवाड़ी पुलिस द्वारा खेड़ा बॉर्डर पर रोक दिया गया और दिल्ली जाने नहीं दिया गया। रेवाड़ी डीसी और एसपी बॉर्डर पर पहुंचे और किसान नेताओ को समझाने एसडीएम बावल मनोज कुमार  और डीएसपी अमित भाटिया ने हाइवे खाली कर संवैधानिक तरीके से प्रदर्शन करने को कहा। लेकिन किसान नहीं माने और दिल्ली जाने की जिद पर अड़े रहे आख़िरकार किसानो ने हाइवे पर ही पक्का मोर्चा डाल दिया। वहीं बॉर्डर पर डीसी यशेंद्र सिंह, एसपी अभिषेक जोरवाल समेत जिला पुलिस, आईआरपीएफ, आरएफ के साथ तमाम प्रशासनिक अमला डटा हुआ था। यहाँ आंदोलन में किसान नेता योगेंद्र यादव, रामपाल जाट, अमराराम, कॉमरेड सत्यवान, राजू सेठी हनान मौला, समेत कई राज्यों के किसान नेताओ और संगठनों ने भाग लिया। किसानो का कहना था कि उनका दिल्ली कूच का कार्यक्रम था रेवाड़ी पुलिस ने उन्हें जबरन बेरिकेड्स लगाकर रोका गया है अब वे सिंधु बॉर्डर की तरह खेड़ा बॉर्डर पर भी जब तक पड़ाव डाले रहेंगे तब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती। दिल्ली के दक्षिण भाग मे भी किसानो का आंदोलन उग्र होने लगा। हरियाणा पुलिस ने बॉर्डर पर किसानो को रोका। जिस कारन दिल्ली जयपुर हाइवे जाम रहा। स्वराज इण्डिया प्रमुख योगेन्द्र यादव के साथ किसान संगठन पदाधिकारियों के पहुंचते ही हाइवे पर बैरिकट लगा जाम किया गया। वाहनो का रुत डायवर्ट कर निकलवाये गये। इससे पूर्व राजस्थान के शाहजहांपुर में केन्द्र सरकार द्वारा पारित कृषि बिलों को वापस लेने की मांग को लेकर रविवार को प्रदर्शन किया गया। राजस्थान हरियाणा सीमा पर भी इसका असर दिखाई दिया। गत १२ दिनो से आंदोलनरत किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट के नेतृत्व मे किसान बॉर्डर पर ही डेरा डाले हुए हैं।आंदोलन की गति को बढाने पहुंचे राजनीति विशेषज्ञ व किसान संगठन समर्थित स्वराज इण्डिया प्रमुख योगेन्द्र यादव के साथ देशभर के विभिन्न किसान संगठन के पदाधिकारियों ने हरियाणा बॉर्डर पर पहुंचते ही पुलिस प्रशासन ने हाइवे के दोनो और बैरिकट लगा हाइवे जाम कर दिया।दोपहर एक बजे से लगाये जाम के पश्चात समाचार लिखे जाने तक जाम रहा। वहीं जाम मे अटके वाहनों को डायवर्ट कर निकाला गया। दिल्ली कूच की योजना के साथ देशभर के विभिन्न संगठनो के पदाधिकारियों ने दिल्ली के दक्षिण भाग राजस्थान-हरियाणा सीमा से होकर जाते समय बॉर्डर पर रोक दिये जाने के पश्चात किसान संगठनो ने केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर कृषि बिलों को किसान विरोधी करार देते हुए अडाणी व अंबानी के इसारों पर बनाया गया कानून बताया।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें