expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Chandan News: मिनी शिमला की धरती पर सैलानियों का आगमन चहल कदमी शुरू

 ग्राम समाचार, चांदन, बांका। प्राप्त जानकारी के अनुसार जमुई जिले के सिमुलतला थाना क्षेत्र अनन्या रेस्टोरेंट में बंगाल से आए सैलानियों ठहरना शनिवार से ही शुरू हो गया। इसी पावन धरती को स्वामी विवेकानंद ने तपोभूमि नाम से प्रचलित किए थे, यहां बांका जिले के धरहरा झरना, (केंदुआर) कटोरवा जंगल, लीलावरण झरना, हल्दी झरना, सिकटीया आश्रम, लट्टू पहाड़, प्रसिद्ध पर्यटन और पिकनिक स्थल के नाम से जाने जाते हैं। 

यहां बंगाल के हावड़ा कोलकाता बर्दवान दुर्गापुर आसनसोल वगैरह के बंगाली सैलानियों चहल कदमी देखे जाने लगे। साथ में आकर्षक रूप मैं बने अनन्या रेस्टोरेंट में सैलानियों का ठहराव देखने को मिलने लगे हैं। अनन्या रेस्टोरेंट में ठहरे सैलानी सुमित भट्टाचार्य मोयून सरकार देवाशीष चटर्जी रवि राज रंजन गंगाधर आचार्य वगैरा ने बताया कि हम लोग पहली बार यह मिनी शिमला पर्यटन स्थल पर पिकनिक मनाने आए हैं, और सही पिकनिक स्थल पर घूम घूम कर आनंद लेते हुए खुशी महसूस कर रहे हैं तथा अनन्या होटल मालिक रेमी चार्ल्स उड एवं फिल्म अभिनेता फेबियन चार्ल्स उड के द्वारा अच्छा ब्यावर महसूस किया इन्होंने हम सभी 

सैलानियों को अतिथि के रूप में सेवा देने का काम किए हैं। इस अनन्य रेस्टोरेंट का खासियत बंगाल से आने वाले सैलानियों तक पहुंचाने का काम करेंगे इधर अनन्या रेस्टोरेंट की मालिक रेमी चार्ल्स उड़ ने बताया कि, हमारे रेस्टोरेंट में आकर्षित कमरे के साथ-साथ विशेष तरह की सुविधाएं से लेस है हमारे रेस्टोरेंट में ठहरने वाले सैलानियों को अतिथि स्वरूप सेवा देने का काम किया जाता है जिससे सैलानियों को किसी प्रकार की असुविधा महसूस ना हो सके। साथ में सैलानियों को विशेष तरह की सुविधा प्रदान के साथ-साथ पिकनिक स्थल तक वाहन व्यवस्था की सुविधा उपलब्ध है। 

उमाकांत साह, ग्राम समाचार संवाददाता, चांदन, बांका।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें