expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Bounsi News: ऋण अधिकारी से लूटी गई ऋण वसूली की रकम

 ग्राम समाचार, बौंसी, बांका। प्रखंड स्थित रोतावरण रोड पर शुक्रवार को देर शाम चार अपराधियों ने ऋण अधिकारी से ऋण वसूली की रकम को लूट लिया। इस मामले में बौसी थाना में दिए गए फर्द बयान के अनुसार मनोज कुमार के पुत्र, राहुल कुमार दुबे, उम्र 26 वर्ष, सा० कहलगांव जिला भागलपुर निवासी ने बताया कि, वर्तमान में उत्कर्ष बैंक हंसडीहा शाखा के ऋण अधिकारी के रूप में कार्यरत हैं। शुक्रवार को देर शाम बैंक का ऋण वसूली करने बंधवा कुरावर थाना क्षेत्र एवं बौसी थाना क्षेत्र के कुछ गांव गए थे। रोतावरन से लौटने के क्रम में चार युवक के द्वारा 

हथियार के बल पर ऋण वसूली की रकम छीन ली गई। साथ ही मोबाइल, पर्स भी छीन लिया गया। बताया जा रहा है कि, उसके बैग में ऋण वसूली का ₹30000 और पर्स में ₹200 के अलावा पैन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइवरी लाइसेंस एवं तीन एटीएम कार्ड भी था। घटना को अंजाम देने के बाद भागने के क्रम में उनकी मोटरसाइकिल की चाबी और हेलमेट भी छीन लिया गया। वहीं थानाध्यक्ष राज किशोर सिंह ने बताया कि, प्राथमिकी दर्ज कर मामले का अनुसंधान किया जा रहा है। मालूम हो कि कुछ दिन पहले ही थोक कपड़ा व्यवसाई के कर्मी से श्याम बाजार राजा पोखर के पास पीछा कर रहे तीन बाइक सवार पर छह अपराधियों ने पिस्तौल के बल पर ₹100000 लूट लिया गया था। इसके अलावा 10 सितंबर को स्टेट बैंक से निकासी कर कैरी गांव जा रहे, सीएसपी संचालक राजीव मिश्रा को ऊपर कैरी पुल के समीप बदमाशों ने गोली मारकर ₹280000 की लूट की थी। वैसे पुलिस ने इस मामले में छह बदमाशों को गिरफ्तार किया है। फिर भी बदमाशों का मनोबल बढ़ता नजर आ रहा है। स्थिति ऐसी हो गई है कि, अपराधी दिनदहाड़े लूट की घटना को अंजाम देने में कतई संकोच नहीं कर रहे हैं। लग रहा है कि अपराधियों को पुलिस का खौफ व डर तनिक मात्र भी नहीं है। आए दिन इस तरह की घटनाएं बढ़ती जा रही है। 

कुमार चंदन, ग्राम समाचार संवाददाता, बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें