expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : अनाज मंडी में फसल खरीद का जायजा लेने की होड़ मच रही, किसानो के सामने नंबर बनाने में जुटे नेता

ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी : अनाज मंडी में प्रतिदिन बाजरे और कपास की खरीद समर्थन मूल्य पर हो रही है लेकिन विपक्ष के नेता गण है कि मंडी पहुंचकर अपने-अपने नंबर बनाने और किसानो की सहानुभूति बटोरने में जुटे हुए है। जहां एक और गुरुवार को स्वराज इंडिया के अध्यक्ष और जय किसान आंदोलन के संयोजक योगेंद्र यादव ने अनाज मंडी पहुंचकर बाजरे की फसल खरीद का जायजा लिया वहीं रेवाड़ी से कांग्रेस विधायक चिरंजीव राव ने भी फसल खरीद का निरिक्षण किया और किसानों से बात कर उनकी समस्याओ को सुना।



स्वराज इंडिया पार्टी के अध्यक्ष और जय किसान आंदोलन के संस्थापक योगेंद्र यादव गुरुवार को रेवाड़ी पहुंचे. यहाँ अनाज मंडी में चल रही बाजरे की खरीद का निरीक्षण किया और किसानों से बातचीत कर उनकी समस्याएँ जानी. इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत की और फसल खरीद प्रक्रिया में तेजी लाने की मांग की. योगेंद्र यादव ने कृषि अध्यादेश को किसानो के लिए काला कानून बताते हुए इसका पुनः विरोध किया और कहा कि जब तक सरकार इन कृषि कानूनो को वापस नहीं ले लेती तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा. योगेंद्र यादव ने कहा कि जिस तरीके से सरकार किसानो की फसल की खरीद कर रही है उससे नहीं लगता कि 15 नवम्बर तक सभी किसानों की फसल खरीद पूरी हो जाएगी. सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वैसे तो सरकार किसान की फसल का एक एक दाना खरीदने का दावा करती है लेकिन धरातल पर आज भी किसान खरीद प्रक्रिया में आ रही विभिन्न समस्याओं से जुझ रहा है. इसके बाद वे किसानो के साथ मार्किट कार्यालय भी गए और कुल रजिस्ट्रेशन और अभी तक हुई कुल खरीद के आंकड़े लिए. योगेंद्र यादव ने मार्किट कमेटी सचिव से बात कर किसानो की समस्याओं से अवगत कराया और मांग की कि किसी भी तरह सरकार को लिखकर खरीद में तेजी लाने की कहे. 



सचिव सत्यप्रकाश यादव ने कहा कि रेवाड़ी में क्रमशः तीन खरीद केंद्र है अभी तक 46 हजार किसानों के रजिस्ट्रेशन पोर्टल पर हुए है जिनमे 20 हजार रेवाड़ी, 24 हजार कोसली और 78 सौ करीब बावल के है जिनकी खरीद प्रक्रिया जारी है. खरीद केंद्र बढ़ाने के लिए उन्होंने सरकार और उच्चाधिकारियों को को लिखा हुआ है. योगेंद्र यादव ने खरीद में तेजी लाने के लिए रविवार तक का समय दिया है वर्ना सोमवार से मार्किट कमेटी कार्यालय के बाहर धरना देने की चेतावनी दी है. 



विधायक चिरंजीव राव ने कहा कि जिले में किसानों के बाजरे की खरीद के लिए 6 खरीद केंद्र बनाए गए लेकिन उनमें से मात्र 3 ही केंद्रों पर बाजरे की खरीद की जा रही है। जिले में बाजरे की उपज के हिसाब से 6 केंद्र बनाए गए थे तो फिर 3 केंद्रों पर सारा बाजरा कैसे खरीदा जाएगा। उक्त आरोप रेवाडी से विधायक चिरंजीव राव ने उस वक्त लगाए जब वे रेवाडी स्थित नई अनाज मंडी में बाजरे की खरीद का जायजा लेने पंहूचे थे। यहां पंहूचकर विधायक ने रजिस्ट्र भी चेक किया कि किसानों को उनका न्यूतम समर्थन मूल्य मिल रहा है या नही। उन्होंने कहा कि किसान भाईयों को रेट तो जायज मिल रहा है लेकिन खरीद को लेकर किसानों को परेशानी उठानी पड रही है। विधायक चिरंजीव राव ने कहा कि बाजरे की खरीद के लिए सरकार ने 45 दिन का समय दिया है, जिनमें से कुछ छुट्टियां भी हैं। रेवाडी मंडी में जिस धीमी गति से बाजरे की खरीद की जा रही है उस हिसाब से तो 45 दिन में बाजरा बिल्कुल भी नही खरीदा जा सकता। इसलिए सरकार को प्रतिदिन किसानों को बाजरा खरीद के लिए टोकन की संख्या बढानी पडेगी। तभी हमारे अन्नदाताओं का एक-एक दाना खरीदा जा सकेगा नही तो इस गति से तो किसान भाईयों का बाजरा नही खरीदा जा सकता। विधायक चिरंजीव राव ने कहा कि बाजरे की खरीद के टोकन की संख्या बढाने और अन्य केंद्रों पर भी बाजरे की खरीद को लेकर वे मुख्यमंत्री से बात करके जल्द से जल्द दोनों समस्याओं का समाधान करवाएगें। हाल ही में कृषि के लिए पारित हुए तीन अध्यादेशों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए चिरंजीव राव ने कहा कि ये किसानों के लिए सिर्फ और सिर्फ काला कानून हैं इसके अलावा कुछ भी नही। आने वाले समय में किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पडेगा। इन काले कानूनों से आढती और मजूदरों को भी मार पडेगी। 


Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें