expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

GoddaNews: फलों के पौध प्रवर्द्धन तकनीक प्रशिक्षण सम्पन्न



ग्राम समाचार गोड्डा, ब्यूरो रिपोर्ट:-    ग्रामीण विकास ट्रस्ट-कृषि विज्ञान केंद्र के सभागार में ग्रामीण युवक/युवतियों का पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का सफलतापूर्वक समापन हुआ।प्रशिक्षण का विषय "फलों के पौध प्रवर्द्धन तकनीक" है। इस पांच दिवसीय प्रशिक्षण के दौरान उद्यान वैज्ञानिक डाॅ0 हेमन्त कुमार चौरसिया ने नर्सरी तैयार करने के लिए स्थान का चयन, नर्सरी का महत्व, विभिन्न प्रकार के नर्सरी में आधारभूत संरचनाओं के विषय में विस्तृत जानकारी दी। ग्रामीण युवकों/युवतियों को मिट्टी की तैयारी, बीज उपचार, बीज रोपण, गमलों में मिट्टी भरना प्रायोगिक विधि द्वारा सिखाया गया। ट्राइकोडर्मा के विषय में चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि ट्राइकोडर्मा एक जैविक फफूँदनाशी है। जो कई प्रकार के हानिकारक फफूंद जनित रोगों से पौधों की रक्षा करता है। यह जीवाणु मुरझा रोग के विरूद्ध भी पौधों की रक्षा करते हैं। ट्राइकोडर्मा से भूमि उपचार तथा बीज उपचार किया जा सकता है। ग्रामीण युवक/युवतियों ने अमरूद तथा नींबू के तनों पर रिंग काटकर गूटी बंधना, आम के पौधों में ग्राफ्टिंग करने का अभ्यास किया। गमलों में मिट्टी एवं गोबर का मिश्रण तैयार कर सजावटी पौधों को लगाने का अभ्यास किया। कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक-सह-प्रधान डाॅ0 रविशंकर ने ग्रामीण युवक/युवतियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि "फलों के पौध प्रवर्द्धन तकनीक" विषय के प्रशिक्षण से मिली जानकारी के माध्यम से फलों की नर्सरी तैयार करें तथा बाजार में बेचकर अपनी आय में वृद्धि करें। प्रशिक्षण के अन्त में सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किया गया।

मौके पर डाॅ0अमितेश कुमार सिंह, डाॅ. रितेश दुबे, शक्ति कुमार गुप्ता मौजूद रहे। परमेश्मर किस्कू, विमल मरांडी, नोरबेट हांसदा, सूरज बेसरा, संतलाल किस्कू, विनोद हेम्ब्रम, सोनोती हांसदा, सावित्री मुर्मू, प्रमिला सोरेन, मयबिटी मुर्मू, मीरू टुडू आदि बोआरीजोर, सुन्दरपहाड़ी, पोड़ैयाहाट तथा अन्य प्रखंडों के युवक/युवतियां प्रशिक्षण में सम्मिलित हुए।

 

Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें