expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Godda News: video- हाट डुमरिया हरकट्टा गांव में लकड़ी माफियाओं के ठिकाने पर वन विभाग ने मारा छापा, चार लाख की अवैध लकड़ी जब्त, मौके से हुए माफिया फरार


ग्राम समाचार, बोआरीजोर(गोड्डा)। ललमटिया  थाना क्षेत्र के हरकट्टा डुमरिया गांव में बुधवार को वन प्रमंडल पदाधिकारी पीके नायडू के निर्देश पर महेश साह एवं दिनेश साह के घर पर छापेमारी की गई। छापेमारी के दौरान दोनों के घरों से शीशम, महुआ, गम्हार, सेमल ,आम आदि की कटिग की हुई अवैध लकड़ी लगभग 400000 की बरामद की गई।


छापेमारी के दौरान लकड़ी माफिया महेश साह और दिनेश साह मौके से लकड़ी माफिया फरार हो गए। घर वालों ने अधिकारियों के समक्ष फर्नीचर काम के लिए लकड़ी रखने की बात बताते हुए लकड़ी से संबंधित कुछ दस्तावेज भी दिखलाए। अधिकारियों द्वारा कागजात का अवलोकन किया गया। लेकिन आलोकित कागजात से वन पदाधिकारी संतुष्ट नहीं थे। अधिकारियों द्वारा बताया गया कि घर में फर्नीचर कार्य करने के लिए 50 सीएफटी तक चीरान लकड़ी रखने का है लेकिन दोनों के घर में भारी मात्रा में कीमती लकड़ी है जो बिल्कुल अवैध है ।

दोनों के घर से जब्त की गई लगभग 4 लाख की अवैध लकड़ी को वन प्रमंडल कार्यालय बोआरीजोर में रखा गया। वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज करने की प्रक्रिया की जा रही है। वन विभाग द्वारा की गई छापेमारी से अवैध रूप से लकड़ी का कारोबार करने वाले लकड़ी माफियाओं में दहशत का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में बोअरीजोर वन क्षेत्र के पदाधिकारी जीवराज भरथुआर ने बताया कि महेश साह एवं दिनेश साह के घर से लगभग 4 लाख की अवैध लकड़ी बरामद की गई है।वन अधिनियम के सुसंगत धारा के तहत मामला दर्ज किया जाएगा और कार्यवाही की जाएगी। मौके पर छापेमारी के दौरान वनपाल चंद्र किशोर मंडल, वंरक्षी महेश कुमार, अनंत कुमार के अलावे महागामा पुलिस, आईआरबी के जवान सहित कई महिला पुलिस बल मौजूद थी।

                                    - ग्राम समाचार,बोआरीजोर(गोड्डा)।


Share on Google Plus

Editor - विलियम मरांड़ी।

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें