expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : रेवाड़ी में आवारा पशुओ से हुई युवक की मौत मामले में प्रशासन ने लिया संज्ञान, बेसहारा पशुओ को पकड़ कर गौशाला में छोड़ने का आदेश दिया

रेवाड़ी में आवारा पशुओ की लड़ाई में हुई युवक की मौत के बाद प्रशासन नींद से जागा और मीडिया में खबरें दिखाए जाने के बाद आवारा पशुओ को पकड़ने का अभियान शुरू किया गया है। नगर परिषद् द्वारा सड़क पर घूम रहे बेसहारा पशुओ को पकड़कर गौशाला में छोड़ने का ठेका दिया गया है। उपायुक्त ने नगर परिषद रेवाड़ी व नपा सचिव धारूहेड़ा व बावल को कड़े निर्देश देते हुए कहा है कि वे रेवाड़ी, बावल, धारूहेड़ा में घूमने वाले आवारा पशुओं को पकड़वाकर रेवाड़ी को स्ट्रे कैटल फ्री करें ताकि लोगों को आवारा पशुओं से होने वाली परेशानियों व भय से छुटकारा मिल सके, यदि ऐसा नहीं किया तो संबंधित अधिकारी सेक्शन 188 के तहत होने वाली कार्यवाही की जाएगी। आवारा पशुओ से हो रही परेशानी के बारे में जब हमने रेवाड़ी पहुंचे राजयमंत्री ओमप्रकाश यादव से सवाल पूछा तो उन्होंने बताया कि सरकार की और से बेसहारा पशुओ के लिए गौशालाए बनाई गयी है आवारा पशुओ के बारे में मंत्री ने कहा कि निकटवर्ती राज्य राजस्थान से चरवाहे अपने पशुओ को सीमा में छोड़ जाते है। इन सभी स्ट्रे एनिमल्स को पकड़कर गौशालाओ में भेजा जायेगा ताकि शहर को कैटल फ्री बनाकर इस समस्या से निजात दिलाई जा सके। डीसी यशेन्द्र सिंह कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद को निर्देश देते हुए कहा कि लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए जब तक घूमने वाले आवारा पशुओं के लिए आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रखें कि अन्य जिलों या राज्यों से कोई भी पशुओं को हमारे जिला में न छोडक़र जाए इसके लिए कड़ी निगरानी करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि पशुपालन विभाग भी आवारा पशुओं को पकडऩे में तुरंत आवश्यक कार्यवाही अमल में लाएं। यशेन्द्र सिंह ने कहा कि जिला में पशुओं को सडक़ों पर आवारा नहीं घूमने दिया जाएगा, जिसके लिए धारा 144 लगाई गई है। जिलाधीश ने आदेशों में पशु पालकों व मालिकों को स्पष्ट निर्देश दिए है कि वे अपने पशुओं को बांध कर रखें तथा खुला न छोड़ें। उन्होंने कहा कि आदेशों की अवहेलना करने पर आईपीसी 1860 के सेक्शन 188 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। 

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें