expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: नई शिक्षा नीति शिक्षा को मजबूत बनाने पर सबसे अधिक फोकस-हिसाबी राय

ग्राम समाचार, पाकुड़।  केंद्र सरकार ने नई शिक्षा नीति की घोषणा की इस पर भाजपा नेता हिसाबी राय ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी और मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक को धन्यवाद एवं बधाई दिया है कि पचास साल की शिक्षा नीति को बदलने का काम किया साथ ही शिक्षा में अधिक फोकस किया गया है।मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को मंजूरी दे दी है शिक्षा नीति में परिवर्तन का स्वागत करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि चौंतीस साल से शिक्षा नीति में परिवर्तन नहीं हुआ था,मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को मंजूरी के बाद चौंतीस साल बाद आई शिक्षा नीति में बड़े बदलाव किए गए हैं। नई शिक्षा नीति में जहां विद्यालय के पाठ्यक्रम को दुरुस्त किया जाएगा वहीं छात्रों को इसकी छूट होगी कि वह चाहे तो बोर्ड में अच्छे अंकों के लिए एक बार फिर से परीक्षा दे सकेंगे,वहीं पचास साल पुरानी शिक्षा ढांचे को भी पूरी तरह बदला गया है।अब यह टेन प्लस टू की जगह पन्द्रह सालों का होगा,इसके शुरुआत में तीन साल फाउंडेशन स्टेज के होंगे जिसमें तीन से आठ साल की उम्र के बच्चों की पढ़ाई कराई जाएगी जो प्री प्राइमरी से दूसरी कक्षा तक के लिए होगा फिलहाल इनकी पढ़ाई के लिए आंगनबाड़ियों का इस्तेमाल किया जाएगा जिसके लिए इन्हें विशेष रूप से तैयार किया जाएगा। नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा के लिए किए गए बदलाव की जानकारी देते हुए भाजपा श्री राय ने बताया कि आने वाले दिनों में स्कूली कोर्स को इसी पैटर्न पर तैयार किया जाएगा इसका आधार ज्ञान और तर्क होगा।नई नीति में इसके साथ बच्चों को शुरू से गणित कोडिंग जैसी शिक्षा दी जाएगी फिलहाल बच्चों को कक्षा छः से ही कोडिंग की पढ़ाई कराई जाएगी।नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा का चार स्तरीय ढांचा होगा, पहला फाउंडेशन स्तर होगा जो पांच साल होगा।जबकि प्रारंभिक स्तर और मिडिल स्तर तीन-तीन साल का और सेकेंडरी स्तर चार साल का होगा।इसमें फाउंडेशन स्तर प्री प्राइमरी से लेकर दूसरी कक्षा तक के लिए होगा प्रारंभिक स्तर कक्षा तीन से पांच तक के लिए मिडिल स्तर कक्षा छः से आठ तक के लिए और सेकेन्ड्री स्तर  कक्षा नौ से बारह तक के लिए होगा।

ग्राम समाचार, बिक्की भगत पाकुड़

Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें