Pakur News: स्थानीय शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार देने की मांग के लिए शिक्षित बेरोजगार युवा मंच ने किया अनिश्चितकालीन धरना

ग्राम समाचार, पाकुड़। जिले के अमड़ापाड़ा स्थित पचुवाड़ा नार्थ कॉल ब्लॉक संचालित कोयला खादान  में कोयला के उत्खनन कार्य में लगी बीजीआर कंपनी में स्थानीय शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार देने की मांग को लेकर पाकुड़ जिला मुख्यालय स्थित समहरणालय के समीप शिक्षित बेरोजगार युवा मंच के जिला अध्यक्ष अमरदीप गोस्वामी के नेतृत्व में मंच के सदस्य अनिश्चितकालीन धरना पर बैठ गए। वही धरना का नेतृत्व कर रहे अमरदीप गोस्वामी ने कहा कि पछले कई वर्षों से  हम लोगो ने कोयला के क्षेत्र में रोजगार  हेतु लंबे समय प्रयासरत  है। इस संबंध में हमलोग वार्ता के माध्यम से शांति जुलूस का माध्यम से कई बार कॉल कंपनी, प्रशासन एवं जिला प्रशासन को सूचित करने का कार्य किया था उसके बाद भी हमलोगो ने स्थानीय युवाओं की अपेक्षा होने के कारण दिनांक 05/ 01/ 2020 को कोयला का चक्का जाम किया गया।अंत पत्र के माध्यम से जिला प्रशासन एवं कोल प्रशासन एवं शिक्षित बेरोजगार युवा मंच के सदस्यों के साथ 1 माह के भीतर  वार्ता कर समाधान निकालने की बात कही गई थी परंतु इसके बावजूद भी किसी ने हम लोगों की एक ना सुनी आज इन्हीं कारणों से मजबूर होकर हम लोगों ने अनिश्चित कालीन धरना देना उचित समझा कई बार हम लोगों को आश्वासन दिया गया परंतु आज तक एक भी शिक्षित बेरोजगार युवकों को रोजगार नहीं दिया गया।उन्होंने कहा कि आज हम लोग मजबूर होकर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं जब तक हमारी मांग पूरा नहीं होगी तब तक हमारा धरना जारी रहेगा। वहीं धरना का समर्थन मदन गोंड, रतन सिंह, अर्धेन्दू शेखर गांगुली, रणवीर सिंह, श्रवण कुमार, प्रकाश वर्मा, बेंजामिन बास्की, वसीम अंसारी, जगदीश साह, कुणाल चैधरी, संजय ठाकुर, मनोज यादव, केताबुल शेख, उक अब्दुल्लाह, सुभाष ठाकुर, साहेब मुर्मू, डेविड हेम्ब्रम के आलवे  इत्यादि मौजूद थे।

ग्राम समाचार, बिक्की भगत पाकुड़


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें