Pathargama News: नेहरू युवा केंद्र पिपरा ने मनाया स्वामी विवेकानंद की जयंती



ग्राम समाचार, पथरगामा ब्यूरो रिपोर्ट:-  नेहरू युवा केंद्र गोड्डा युवा कार्य और खेल मंत्रालय भारत सरकार के तत्वधान में जिला युवा अधिकारी कुश कुमार के निर्देशानुसार प्रखंड अंतर्गत मध्य विद्यालय पिपरा में राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर स्वामी विवेकानंद के फोटो पर पुष्प अर्पित कर स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाई गई |मौके पर उपस्थित एन वाई वी गायत्री कुमारी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का जन्म  12 जनवरी 1863 और मृत्यु: 4 जुलाई 1902 को हुई थी| ये वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण वेदान्त दर्शन अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द के वक्तव्य के कारण ही पहुँचा। वे रामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य शिष्य थे।


उन्हें विश्व धर्म सभा में बोलने के लिए महज 2 मिनट का समय दिया गया था | जीरो विषय पर अपना भाषण का आरम्भ "मेरे अमेरिकी बहनों एवं भाइयों" के साथ कर घंटों तक भाषण दिया और धर्म सभा में मौजूद तमाम विद्वानों ने मौन रहकर उनकी भाषण को सुना | दीपक कुमार दास ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाए | आज हम स्वामी जी के बताए मार्ग पर चल ने की जरूरत है | मौके पर प्रधानाचार्य दिलीप कुमार सहायक शिक्षक खगेंद्र प्रसाद महतो, मोहम्मद जहीर, हेमलाल मुर्मू, विपुल दुबे सहित छात्र छात्रा क्रमशः सनी भारती, गीतेश मेहरा, शशिभूषण सोरेन, राजा कुमार, पूनम कुमारी, नीतीश कुमार, सानु, शरवन पंडित, बिरुजू दास, सुमन कुमारी, पूजा, राजरानी, सीमा, काजल, अन्नु, सुनीता, भवानी भारती, मधु कुमारी आदि दर्जनों छात्र छात्राएं मोजूद रही।

अमन राज:- 

Share on Google Plus

Editor - भूपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education