Jamshedpur News: भ्रम में न रहे जैन, पारसनाथ संतालों का है और आगे भी रहेगा : देश परगाना बैजू मुर्म


 ग्राम समाचार संवाददाता, जमशेदपुर:  जिला के घाटशिला अनुमंडल के पावड़ा गांव में अवस्थित मांझी परगना महल  बाखुल में  धाड़ दिसोम  मांझी परगाना महल/ आदिवासी पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था की एक बैठक दिसोम परगाना बाबा बैजू मुर्म की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई. इसमें मांझी परगाना के बैठक सर्वसम्मति से  पारसनाथ पहाड़ी पर संताल आदिवासी के युग जाहेर के खिलाफ केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा एक तरफा कारवाई करते हुए जैन समुदाय के पक्ष में फैसला का विरोध कर कड़ी निंदा की. इस विवादित विषय पर बयान देते हुए दिसोम परगाना बैजू मुर्म ने कहा कि मांराङ बुरु युग जाहेर  धरमगढ़ आदि काल से संताल समुदाय का रहा है और आगे भी रहेगा. पहाड़ पर स्थित जुग जाहेर में इष्टदेव मारांङ बुरु के साथ  की पूजा और  बलि की प्रथा सदियों से प्रचलित है. देवताओं की मान्यता के अनुसार बलि भेंट करने एवं चावल से बने शुद्ध पेयजल  झार दा: के रुप अर्पित किया जाता है. अवशेष को प्रसाद के रूप वेसन की जाती है. बैठक में जुगसलाई तोरोफ परगाना दसमत हांसदा,आसानबनी तोरोफ परगाना हरिपदो मूर्म,घाट परगाना लखन मार्डी,पराणिक मधु सोरेन, जमशेदपुर पुड़सी मांझी बिंदे सोरेन,मांझी बाबा दुर्गा चरण मुर्म,रमेश मूर्म, कुशाल हांसदा, कृष्ण हेम्ब्रम, बिरसिंग बास्के,मुनीराम मार्डी,सुखराम किस्कू, मार्शल मूर्म, एवं रामराय हांसदा मुख्य रुप में उपस्थित थे.

 कालीदास मुर्मू जमशेदपुर।


Share on Google Plus

Editor - कालीदास मुर्मू , जमशेदपुर

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education