Rewari News : वृद्धावस्था सम्मान भत्ता पेंशन के रूप में जिले के 67,200 बुजुर्गों को मिल रहे 2500 रुपए प्रतिमाह

रेवाड़ी 11 फरवरी : हरियाणा सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से विभन्न सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिनका बुजुर्ग लाभपात्रों को पूरा लाभ मिल रहा है।

डीसी यशेन्द्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश सरकार की ओर से वृद्धावस्था सम्मान भत्ता पेंशन योजना के तहत बुजुर्गों को हर माह 2500 रुपए की राशि बैंकों तथा डाकघरों के माध्यम से उपलब्ध करवाई जा रही है। सरकार द्वारा प्रदेश के बुजुर्गों को सम्मान देने के लिए प्रदेशभर में वृद्धावस्था सम्मान भत्ता पेंशन योजना लागू की गई है। जिला में 67 हजार 200 बुजुर्गों को इस योजना का लाभ दिया जा रहा है, जिनमें बीसी कैटेगरी के 31200, जरनल कैटेगरी के 28563 तथा एससी कैटेगरी के 7437 लाभपात्र शामिल हैं।

प्रदेश में इस प्रकार हुआ वृद्धावस्था पेशन में इजाफा :
डीसी यशेन्द्र सिंह ने बताया कि वृद्धावस्था सम्मान भत्ता पेंशन योजना के तहत वर्ष 2013-14 में हरियाणा में 1000 रुपए पेंशन मिलती थी जिसे 2014-15 में 1200 रुपए, 2015-16 में 1400 रुपए, 2016-17 में 1600 रुपए, 2017-18 में 1800 रुपए, 2018-19 में 2000 रुपए, 2019-20 में 2250 रुपए और 2020-21 में 2500 रुपए किया गया है।  उन्होंने बताया कि हरियाणा में वर्तमान में बुजुर्गों को 2500 रुपए पेंशन दी जा रही है जो कि अन्य राज्यों की तुलना में सर्वाधिक है।

प्रदेश में अब खुद ब खुद शुरू होगी वृद्धावस्था पेंशन :
डीसी ने कहा कि हरियाणा सरकार मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में ऐसी व्यवस्था करने जा रही है जिससे हरियाणा के बुजुर्गों को अब पेंशन के लिए कोई परेशानी नहीं होगी। पेंशन को परिवार पहचान पत्र से जोड़ा जा रहा है। इससे जो भी व्यक्ति 60 वर्ष की आयु पूरी कर लेगा और वह पेंशन लेने का पात्र होगा और उसकी पेंशन खुद ब खुद शुरू हो जाएगी।
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education