Chandan News: सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट की सच्चाई:-राज्य सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट हर घर नल-जल योजना की सच्चाई, कहीं मीनार खड़ी तो टंकी फटा, कहीं टंकी भी लगी है तो बोरिंग फेल

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। ज्ञात हो कि शुबे के मुखिया मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साल 2015 अपने ड्रीम प्रोजेक्ट की एक पोटली बनाई थी। जिसका नाम दिया था सात निश्चय योजना। उसी ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक था हर घर नल-जल योजना। जिसके माध्यम से हर घर को नल के जरिए जल पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया था। मगर योजना का हाल यह है कि कहीं मीनार खड़ी है तो सालों से मोटर ख़राब पड़ा है,कहीं टंकी भी लगी है तो बोरिंग फेल, कहीं मोटर जला हुआ है,तो कहीं पूरे वार्ड में अभी तक कनेक्शन नहीं पहुंचा पाया है। ये सारी दास्तान चांदन प्रखण्ड का कुसुमजोरी पंचायत के वार्ड नंबर 10‌ के कुसुमजोरी के अलावा 5 नम्बर वार्ड कड़वामारन हरिजन बस्ती वार्ड नंबर 7 के सतभैया कुरुमटांड़ गांव से सामने आ आई है। जहां टंकी तो लगा है लेकिन जब से लगा है तब से उस वार्ड के लोगो को कभी इस योजना का सही से लाभ तक नही मिला है। 


इस योजना के तहत वार्ड के कुछ ही घरो में पानी का कनेक्शन हुआ है। जबकि उक्त सभी वार्डो में करीब सेंकड़ों की आबादी है। ताज़ा मामला सुन छोरी पंचायत के वार्ड नंबर 5  कडवामारन गांव के ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार जल नल योजना के प्राक्कलन राशि के मुताबिक कोई कार्य नही हुआ है। घटिहा सामग्री का प्रयोग कर इस योजना को अमलीजामा पहनाया गया है। जो फिलहाल आठ महीने से पानी टैंक फटा होने को लेकर जल नल योजना बन्द पड़ा है।संवेदक के साथ साथ पंप संचालक को भी कई बार बोलने पर भी आज तक पंप चालु नहीं कर रहा है। जिससे हम ग्रामीणों को दूषित पानी पिने को मजबूर हैं शुद्ध जल से वंचित हैं।पुर्व के वार्ड के क्रियान्वयन समिति एवं प्रशासन की लापरवाही के कारण अब तक मरम्मत नही हुआ है। इस संबंध में चांदन वीडियो राकेश कुमार ने बताया कि जल नल योजना से संबंधित खामियां को जल्द से जल्द रिपोर्ट को संज्ञान में लेकर चालू कराने का प्रयास करेंगे। अब देखना है कि कितना कारगर साबित होती है जल नल योजना की समस्या का हल करने में।

उमाकान्त साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education