Rewari News : राव इंद्रजीत पर उंगली उठाने वाले पहले अपने गिरेबान में झांके : पूनम यादव चेयरपर्सन

नगर परिषद चेयरपर्सन पूनम यादव ने कहा है कि केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह पर अनर्गल आरोप लगाने वाले पहले अपने गिरेबान में झांक ले। उन्होंने कहा कि जिनके खुद के घर शीशे के बने हो वह दूसरों पर पत्थर नहीं मारा करते। उन्होंने कहा कि पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव की  सत्ता में रहते हुए कमाई गई संपत्ति के चर्चे तो अहीरवाल के बच्चेबच्चे की जबान पर है। और पूर्व जिला प्रमुख सतीश यादव कल तक राव की उंगली पकड़कर ही राजनीति में चलना सीखे थे। वे विधानसभा और यहां तक कि नगर परिषद के चुनाव में जनता द्वारा नकार दिए गए तो अपनी बौखलाहट राव पर निकाल रहे हैं।



नगर परिषद चेयरपर्सन ने कहा कि कल तक एक दूसरे पर राजनीतिक बाण और एक दूसरे के राजनीतिक दुश्मन आज एक हो गए हैं तो उसे अंदाजा लगाया सकता है कि राव इंद्रजीत इन सब पर कितने भारी हैं।  नगर परिषद की चेयरपर्सन ने कहा कि सत्ता में रहते हुए किसने करोड़ों की जमीन खरीदी और किसने अपने संस्थान बनवाएं यह अहिरवाल की जनता बखूबी जानती है। इन लोगों ने सत्ता का दुरुपयोग ना केवल अपने लिए किया , बल्कि क्षेत्र के लोगों के खिलाफ भी करते हुए नेहरों के मोड़ भी अपने खेतों की ओर मुडवा दिए। पूनम यादव ने कहा कि जो लोग कल तक राव इंद्रजीत की उंगली पकड़कर राजनीति करना सीखते थे और उनकी कृपा से ही चेयरमेन  विधानसभा का चुनाव  लड़ पाए आज अपने मंसूबे सफल ना होता देख राव पर निराधार आरोप लगा रहे हैं। नगर परिषद चेयरपर्सन ने कहा कि राव की ईमानदार छवि की लोग देश भर में मिसाल देते हैं , वही अपने स्वार्थ के लिए चंद नेता राव की बढ़ती लोकप्रियता को देखकर एकजुट होकर राव पर हमला करने का काम कर रहे हैं। यह राव की लोकप्रियता है कि विरोधी भी अब एकजुट होकर रणनीति बनाने पर मजबूर हो गए हैं।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education