expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Pathargama News: वीकेंड लॉक डाउन की जमकर अनदेखी हुई पथरगामा में



ग्राम समाचार, पथरगामा:- सरकार के निर्देशानुसार शनिवार की संध्या 8:00 बजे से सोमवार की सुबह 6:00 बजे तक लगने वाले वीकेंड लॉकडाउन के  प्रतिबंधों का लोगों ने और दुकानदारों ने जमकर मखौल उड़ाया| पथरगामा चौक स्थित तीन मिठाई की दुकान और पथरगामा हाट स्थित मिठाई की दुकानें खुली रही| पथरगामा चौक स्थित लगने वाली दैनिक सब्जी की मंडी आधी खुली रही| आम दिनों की तरह लोग इधर-उधर घूमते देखे गए उनमें से कुछ लोग ही मास्क में नजर आए| हालांकि पथरगामा चौक स्थित नीम के पेड़ के नीचे दो चौकीदारों के बलबूते राजस्व उपनिरीक्षक के द्वारा मोटरसाइकिल पर बिना मास्क के आने जाने वालों से चालान काटा जा रहा था जो सिर्फ खानापूर्ति ही लग रहा था| जिस जगह राजस्व उपनिरीक्षक बैठकर चालान काट रहे थे ठीक उनके पीछे तीन लोग बिना मास्क पहने खड़ा











थे पूछे जाने पर कि बिना मास्क पहने लोग आपके पीछे खड़ा है क्या आपने उनका चालान काटा तो उन्होंने जवाब से कन्नी कटाते हुए उन तीनों को हल्का घुड़की देकर वहां से जाने को कहा गया परंतु वह लोग वहीं जमे रहे| उधर प्रशासन भी कुंभकरण की नींद में सोया रहा| अपराहन 3:00 बजे के पास एक बार पेट्रोलिंग गाड़ी चक्कर मारी परंतु उसे पथरगामा चौक स्थित खुली हुई मिठाई दुकान नजर नहीं आई| कुल मिलाकर यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी की पथरगामा में वीकेंड लॉकडाउन टाय टाय फिश साबित होकर रह गया| इस बाबत जब थाना प्रभारी बलिराम रावत से पूछी गई तो उनका कहना था कि पुलिस गाड़ी को भेजकर दुकान बंद करने की अपील करवा दी गई है| अब मैं खुद पथरगामा चौक पर हूं किसी भी दुकान को खोलने नहीं दिया जाएगा| जो भी दुकान खुला पाया जाएगा उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी|

अमन राज:- 


Share on Google Plus

Editor - भूपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें